महंगाई का मजा : पेट्रोल व डीजल से सरकार ने भरा खजाना,1 लाख 71 करोड़ रुपये की कर ली कमाई

महंगाई का मजा : पेट्रोल व डीजल से सरकार ने भरा खजाना,1 लाख 71 करोड़ रुपये की कर ली कमाई

DESK : एक तरफ देश की जनता गैस, पेट्रोल  और डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान है, वहीं दूसरी तरफ पेट्रोलियम कंपनियां इस पर भारी मुनाफा कमा रही हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक पेट्रोलियम उत्पादों पर सिर्फ उत्पाद शुल्क संग्रह पहली छमाही में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 33 फीसदी बढ़कर 1.71लाख करोड़ का हो गया है। सीधी भाषा में कोरोना काल के पूर्व के आंकड़ों से तुलना करें तो उत्पाद संग्रह शुल्क में 79 परसेंट की बड़ी वृद्धि हुई है।

देश के वित्त मंत्रालय में लेखा महानियंत्रक(सीजीए) के रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल चालू वित्त वर्ष की पहले छह माह में 1.28 लाख करोड़ की आमदनी सिर्फ उत्पाद संग्रह शुल्क से हुई थी। जबकि इस साल के वित्तिय वर्ष के पहले छमाही में इसमें बड़ी वृद्धि हुई हुई है। इस साल उत्पाद संग्रह शुल्क से सरकार को 1.79 लाख करोड़ की आय हुई है। यह अप्रैल – सितंबर 2019   के 95,930 करोड़ के आंकड़े से 79 फीसद अधिक है।  

बढ़ती जा रही है कंपनियों की कमाई

बात अगर तेल कंपनियों की कमाई की करें तो यह लगातार बढ़ती जा रही है। 2019-20 में उत्पाद संग्रह शुल्क से 2.39 लाख करोड़ की आमदनी हुई थी। 2020-21 में यह बढ़कर  3.89 लाख करोड़ पहुंच गई। अब 2021-22 की पहली छमाही में ही 1.71 लाख करोड़ की आय हो चुकी है। जिस तरह से तेल की कीमतों में सरकार लगातार बढ़ोतरी कर रही है, उसके बाद यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वित्तिय वर्ष की समाप्ती तक यह आंकड़ा बढ़कर चार लाख करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगा।

बता दें कि माल एंव सेवा कर(जीएसटी) प्रणाली लागू होने के बाद सिर्फ पेट्रोल, डीजल,विमान ईंधन और प्राकृतिक गैस पर ही उत्पाद शुल्क लगता है। अन्य उत्पादों व सेवाओं  पर जीएसटी लगता है। 


Find Us on Facebook

Trending News