चुनावी रंजिश में मारपीट में हुए घायल की इलाज के दौरान मौत, जिला परिषद के उम्मीदवार थे

चुनावी रंजिश में मारपीट में हुए घायल की इलाज के दौरान मौत, जिला परिषद के उम्मीदवार थे

नवादा. चुनावी रंजिश में हुई मारपीट में घायल सुनील केवट की मौत हो गई। पटना में इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया, जिसके बाद शुक्रवार की सुबह स्वजन शव लेकर सदर अस्पताल नवादा आ गए। सुनील संपन्न पंचायत चुनाव में रोह पश्चिमी सीट से जिला परिषद के उम्मीदवार थे और गोविंदपुर थाना क्षेत्र के डुमरी गांव के रहने वाले थे। घटना के बाबत मृतक के भतीजा बंटी कुमार ने नवनिर्वाचित जिला पार्षद विद्या भूषण केवट समेत दस लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। 

22 दिसंबर को सुनील अपने घर में थे। तभी कुछ लोग घर में घुस गए और उन्हें पीटने लगे। मारपीट करने वाले लोगों का कहना था कि चुनाव लड़ने से मना करने के बाद भी उम्मीदवार क्यों बने। बचाव करने पर उनके परिवार के अन्य सदस्यों मनीषा कुमारी, बबीता देवी, आरती कुमारी, शीला देवी, आकाश कुमार के साथ भी मारपीट की गई थी। मारपीट में सुनील गम्भीर रूप से जख्मी हो गए थे। तबसे उनका इलाज पटना में चल रहा था। 

गुरुवार की देर रात उनकी मौत हो गई, जिसके बाद स्वजन शव लेकर सदर अस्पताल नवादा आए और गोविंदपुर थाना की पुलिस को सूचना दी। जानकारी पाकर गोविंदपुर थानाध्यक्ष डा नागेंद्र प्रसाद सदर अस्पताल पहुंचे और पीड़ित परिवार से फर्द बयान लिया। मृतक के भतीजा बंटी ने 1नवनिर्वाचित जिला पार्षद सहित शिवनन्दन केवट, सोनू केवट, शांतनु केवट सहित 13 लोगों पर हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई है। सभी आरोपित डुमरी गांव के रहने वाले हैं। थानाध्यक्ष ने बताया कि बयान लिया गया है। प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। उन्होंने बताया कि मारपीट होने पर उसी दिन दोनों पक्षों ने आपसी सुलह कर लिया था। तब प्राथमिकी दर्ज नहीं कराई गई थी।

Find Us on Facebook

Trending News