पिता का एमआरआई कराने पहुंचे सांसद की रिसेप्शनिस्ट ने कर दी बेइज्जती, कहा - इन्हें जल्दी बाहर निकालो

पिता का एमआरआई कराने पहुंचे सांसद की रिसेप्शनिस्ट ने कर दी बेइज्जती, कहा - इन्हें जल्दी बाहर निकालो

BHAGALPUR : अपने पिता का एमआरआई टेस्ट कराने मायागंज अस्पताल पहुंचे  भागलपुर सांसद अजय मंडल के साथ सेंटर के रिसेप्शनिस्ट द्वारा दुर्व्यवहार करने का मामला सामने आया है। इस दौरान स्टाफ सांसद के पिता और भाई भी गलत व्यवहार किया गया। जिसके बाद सांसद भड़क गए और अस्पताल मे जमकर हंगामा हो गया। मामले में सांसद ने जिले के डीएम के पास लिखित शिकायत करते हुए संबंधित स्टाफ को नौकरी से हटाने की मांग की है। 

बता दें शनिवार को अपराह्न करीब सवा तीन बजे सांसद अजय मंडल अपने पिता 75 वर्षीय पिता रामदास मंडल के दिमाग की एमआरआई जांच कराने के लिए मायागंज अस्पताल परिसर में संचालित एमआरआई सेंटर पहुंचे। इस समय उनके साथ उनके छोटे भाई अनुज कुमार मंडल व अन्य सहयोगी थे। 

सांसद के पिता को रिसेप्शनिस्ट ने कहा , ‘जल्दी इन्हें बाहर निकालो’

सांसद ने बताया कि नंबर लगाते वक्त भी रिसेप्शनिस्ट ने उनके भाई, उनके व पिता के साथ दुर्व्यवहार किया। इसके बाद पिता को एमआरआई के लिए अंदर ले जाया गया। वहां से बिना एमआरआई जांच किये कुछ देर बाद बाहर किया गया तो इसका कारण पूछने पर रिसेप्शनिस्ट ललन कुमार ने अपने कर्मचारियों से कहा कि इन्हें जल्दी से बाहर निकालो। ऐतराज किये जाने पर उसने फिर से सांसद व उनके भाई के साथ दुर्व्यवहार किया। 

डीएम से की शिकायत, कहा - जब सांसद के साथ ऐसा व्यवहार तो... 

नाराज सांसद ने मौके से ही डीएम सुब्रत कुमार सेन को फोन मिलाकर कार्रवाई करने की मांग की। सूचना मिलते ही मौके पर तिलकामांझी व बरारी पुलिस पहुंची। सांसद अजय कुमार मंडल ने कहा, 'इस मामले की शिकायत डीएम से कर दी है। साथ ही भाई अनुज कुमार मंडल के जरिये मुकदमा दर्ज करने के लिए बरारी पुलिस को लिखित आवेदन दिला दिया है। इस मामले में बिना कार्रवाई किये पीछे नहीं हटना है।'

नौकरी से हटाने का आदेश

इस दौरान हेल्थ मैनेजर इरफान व हॉस्पिटल मैनेजर सुनील कुमार गुप्ता भी रिसेप्शनिस्ट ललन कुमार को समझाने का प्रयास किया, तब भी वह नहीं माना। यहां तक कि वह अपनी गलती भी नहीं मान रहा था। अब सांसद के परिवार से गलत व्यवहार करने पर मायागंज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. असीम कुमार दास ने कहा, 'एमआरआई सेंटर चला रहे स्वागतो एजेंसी के संचालक को फोन करके संबंधित स्टाफ को हटाने का निर्देश दे दिया गया है। 


Find Us on Facebook

Trending News