खेत में खाद डालने गए किसान को बाघ ने अपना शिकार, पूरा खा गया, सिर्फ हड्डी और कपड़े ही मिले

खेत में खाद डालने गए किसान को बाघ ने अपना शिकार, पूरा खा गया, सिर्फ हड्डी और कपड़े ही मिले

BAGHA : बिहार में वाल्मिकी टाइगर रिजर्व के बाघों द्वारा लगातार आसपास की बस्ती के लोगों पर हमले की घटनाएं सामने आ रही है। लेकिन शुक्रवार को जो घटना हुई है, उसके बाद यहां के लोगों में दहशत का डर का माहौल कायम हो गया है। यहां खेत में खाद डालने गए किसान को बाघ ने न सिर्फ अपना शिकार बनाया है, बल्कि उसके शरीर को पूरा का पूरा खा गया है। घटना के बाद सिर्फ हड्डी और कपड़े के टूकड़े ही मिले हैं, जिससे उसकी पहचान की गई है। 

बताया गया कि बगहा में वाल्मीकि टाइगर रिजर्व अंतर्गत चिउटाहा वन क्षेत्र के समीप बैरिया काला गांव निवासी धर्मराज काजी गुरुवार की शाम खेत में खाद डालने गए थे। जो देर रात तक वापस नहीं लौटे तो परिजनों ने खोजबीन शुरू किया। शुक्रवार को स्थानीय ग्रामीणों को स्थानीय लोगों को जंगल के समीप धर्मराज के कपड़े और हड्डियों के अवशेष पड़े हुए मिले। जिसके बाद उसके परिवार को सूचित किया गया। जिन्होंने कपड़ों से उनकी पहचान की। मृत किसान की पांच बेटियां और एक बेटा है।  धर्मचारी की मौत के बाद क्षेत्र में कोहराम मचा हुआ है।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार किसान के शव का मांस बाघ के द्वारा खा लिया गया है और उस जगह पर केवल हड्डियों का अवशेष मिला है. मामले में लौकरिया थानाध्यक्ष अभय कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि शव मिलने की सूचना मिली है. पुलिसकर्मियों की टीम को मौके पर भेजा गया है.


वन कर्मियों ने शुरू की बाघ की छानबीन

हरनाटांड़ वन क्षेत्र के वन अधिकारी रमेश प्रसाद श्रीवास्तव ने बताया कि इसकी सूचना मिलते ही जंगल में वन कर्मियों के साथ खोजबीन की गई जिसमें क्षत-विक्षत शव मिला है. जांच पड़ताल कर आगे की कार्रवाई की जा रही है. हरनाटांड़ रेंजर ने भी बाघ के हमले में किसान की मौत होने की पुष्टि किया है और वन विभाग द्वारा मुआवजा देने की कवायद तेज कर दी गई है.

बाघ के हमले से तीसरी मौत

बिहार के इकलौते वाल्मीकि टाइगर रिजर्व जंगल से बाघ निकलकर रिहायशी इलाकों में चहलकदमी कर रहा है, जो आदमखोर हो चुका है क्योंकि बाघ ने अब तक कुल 5 लोगों पर हमला किया है जिनमें 3 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि दो लोग अपाहिज हो गए हैं. यह तीसरी मौत है जब आदमखोर ने किसान धर्मराज काजी को अपना निवाला बनाया है।

वन विभाग ने माना - बढ़ा है खतरा

 इधर वन विभाग के अधिकारी भी मान रहे हैं कि बाघ के हमले में किसान की मौत हुई है। आशंका जताई जा रही है कि ये बाघिन है जो अब आदमखोर हो चुकी है जो बार-बार इसी इलाके के आस पास लोगों पर जानलेवा हमला कर रही है और वन विभाग उसका रेस्क्यू करने या पकड़ने में नाकाम साबित हो रहा है

Find Us on Facebook

Trending News