बिहार के इस आईएएस अधिकारी ने पेश की सादगी की मिसाल, पटना की सड़कों पर की रिक्शे की सवारी

बिहार के इस आईएएस अधिकारी ने पेश की सादगी की मिसाल, पटना की सड़कों पर की रिक्शे की सवारी

PATNA :बिहार सरकार के फैसलों को अमलीजामा पहनाने के लिए आईएएस अधिकारी काम करते हैं। सरकार के पास इन अधिकारियों की लम्बी फेहरिस्त है। कई अधिकारी अपने कड़क स्वभाव के लिए जाने जाते है। कई अधिकारियों का स्वभाव आम जनता के हितों के अनुरूप होता है। जिलों से लेकर सचिवालय तक आईएएस अधिकारी सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए विभागों के नीतियों को आम जनता तक पहुंचाते हैं।


राज्य सरकार की ओर से इसके लिए उन्हें तमाम तरह की सुविधायें मुहैया कराई जाती है। उन्हें आवास, गाड़ी और कर्मी के साथ कई तरह की सुविधा दी जाती है। फिर भी आम जनता तक जो योजनाओं को पहुंचाने में अहम भूमिका निभाते हैं। उनके रहन सहन और आचार व्यवहार से लोग बहुत ही कम वाकिफ होते हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक आईएएस अधिकारी से मिलवाते हैं। जिनकी सादगी देखकर आप दंग रह जाएंगे। 

1991 बैच के आईएएस अधिकारी एस सिद्धार्थ के कन्धों पर राज्य सरकार की महत्वपूर्ण जिम्मेवारी है। वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रधान सचिव होने के साथ वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव भी है। एस सिद्धार्थ अपनी सादगी को लेकर काफी लोकप्रिय है। कभी पटना की सडकों पर वे साइकिल से घूमते नजर आ जाते हैं तो कभी रिक्शे की सवारी करते दिख जाते हैं। 

शनिवार की शाम भी आईएएस अधिकारी सरकारी गाडी होने के बावजूद पटना की सडकों पर रिक्शे पर निकल पड़े। रिक्शे पर ही वे पटना के मौर्यालोक सहित कई स्थानों पर गए। हालाँकि इस दौरान कई लोग उन्हें पहचान नहीं पाए। लेकिन रिक्शे पर उन्होंने आम आदमी की तरह पूरा पटना घूम लिया।  


Find Us on Facebook

Trending News