यह बिहार पुलिस नहीं जदयू पुलिस है, अगर विपक्ष का सांसद होता तो बदनाम करने के लिए घर में घुस जाते

यह बिहार पुलिस नहीं जदयू पुलिस है, अगर विपक्ष का सांसद होता तो बदनाम करने के लिए घर में घुस जाते

PATNA : भागलपुर से जदयू सांसद अजय मंडल के घर से वांटेड अपराधी कपिल यादव की गिरफ्तारी के बाद राजद आक्रमक मूड में आ गई है। जिस तरह के सांसद अजय मंडल ने अपने बयान में कहा है कि उनके घर आनेवाला कोई भी व्यक्ति भगवान की तरह है, उसके बाद राजद ने कहा है कि यह साफ हो गया है कि बिहार में अपराधियों को सत्ता का संरक्षण हासिल है। 

राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने सांसद के आवास से कुख्यात बदमाश की गिरफ्तारी को लेकर कहा कि बिहार की पुलिस इस बात का इंतजार करती रही कि वह कब सांसद के घर से बाहर निकले ताकि उसे गिरफ्तार किया जाए। बिहार पुलिस ने इस बात का पूरा ख्याल रखा कि इस कार्रवाई में जदयू के सांसद की छवि धूमिल न हो। अगर उनकी जगह कोई विपक्ष का सांसद होता तो यही पुलिस तमाम प्रोटोकॉल भूल जाती और घर में घुसकर कार्रवाई करती। उन्हें बदनाम करती और उनकी छवि खराब करती।  उन्होंने कहा कि हमलोग पहले भी कहते रहे हैं कि यहां बिहार पुलिस नहीं बल्कि जदयू पुलिस बनकर रह गई है। भागलपुर की घटना के बाद यह साबित हो गया है। उन्होंने कहा कि सांसद चाहें अपने बचाव में जो कहें लेकिन इस घटना से एक बात साबित हो गई है कि यहां अपराधियों को सत्ता का संरक्षण हासिल है।

बता दें कि शुक्रवार को भागलपुर पुलिस ने कई मामलों में वांटेड अपराधी कपिल यादव को उस समय गिरफ्तार किया था, जब वह सांसद अजय मंडल के आवास से  बाहर निकल रहा था। इस कार्रवाई को लेकर पुलिस की तरफ से कहा गया कि प्रोटोकॉल के कारण सांसद के घर के अंदर नहीं गए। वहीं सांसद अजय मंडल ने अपने बचाव में कहा कि गिरफ्तार बदमाश के अपराधी होने को लेकर अपनी अनभिज्ञता जाहिर की थी।  उन्होंने कहा था कि वह रोड के टेंडर के काम से आया था, मेरे घर पर आनेवाला हर व्यक्ति भगवान की तरह होता है। 

Find Us on Facebook

Trending News