पिकअप लूट कांड में तीन आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

पिकअप लूट कांड में तीन आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

मसौढ़ी.  प्रेस की पिकअप वैन लूट कांड का आज मसौढ़ी अनुमंडल पुलिस ने उद्भेदन किया है। इस मामले में अनुमंडल के धनरुआ पुलिस ने तीन आरोपियों को जेल भेजा है। आपको बता दें कि दिनांक 21-22 अगस्त 2021 की रात्रि पाटलिपुत्र पटना से हिंदुस्तान, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदू और कुछ उर्दू अखबार लोड कर प्रेस की एक पिकअप वैन गया जा रही थी। पिकअप वैन NH-83 पर धनरुआ थाना अंतर्गत नीमा गाँव के पास ही पहुँची थी कि  हथियारबंद अपराधियों ने पिकअप वैन को रुकवा कर उसके ड्राइवर और खलासी को बंधक बना अपने कब्जे में लेकर अपने साथ ले चले गए थे।

इस घटना के बाद मसौढ़ी अनुमंडल पुलिस पूरी तरह से सक्रिय थी, और घटना में संलिप्त सभी अपराधियों की धर पकड़ के लिए छापेमारी कर रही थी। आपको बता दें कि घटना के तुरंत बाद नगर पुलिस अधीक्षक पूर्वी पटना के आदेश पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मसौढ़ी के नेतृत्व में धनरूआ थाना अध्यक्ष भगवानगंज थाना अध्यक्ष और कादिरगंज थाना अध्यक्ष को लेकर एक विशेष टीम की गठन किया गया था, ताकि पूरे मामले का उदभेदन जल्द से जल्द हो सके।

टीम के गठन के बाद पुलिस ने अनुसंधान के क्रम में सबसे पहले शंकर कुमार उर्फ निप्पू को धनरूआ थाना अंतर्गत भाईपुर मोड़ से गिरफ्तार किया था। इसके बाद उसकी निशानदेही पर पुलिस ने अवधेश कुमार, गुड्डू कुमार, पिंकू प्रसाद, बैजनाथ शाह और राजा शाह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस घटना में प्रयुक्त एक देसी कट्टा और एक गोली को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। साथ ही पिकअप वैन का कुछ सामान जैसे इंजन और उसके कुछ पार्ट्स को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है।

आपको बताते चलें की घटना में शामिल अवधेश कुमार पोस्ट सौरभ पिता लल्लन प्रसाद ग्राम पीपर पाती थाना कादिरगंज जिला पटना। पहले से भी कई लूट कांड में संलिप्त रहा है। पुलिस रिपोर्ट की माने तो अलग-अलग थानों में उसके नाम से करीब  दर्जनों मामले दर्द है ।पूरे मामले में मसौढ़ी एसडीपीओ वैभव शर्मा ने बताया नहीं की घटना में शामिल कुल 11 लोगों में से अभी तक 6 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लेकर जेल भेज दिया है। जल्द ही इस पूरे मामले में संलिप्त सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा।

आज पुलिस के द्वारा जेल भेजे गए अपराधियों में पिंकू प्रसाद, बैजनाथ साह और राजा कुमार शामिल हैं। पूरे घटना में शामिल सभी अपराधी इतने शातिर हैं कि उन्होंने सबूत मिटाने के लिए पहले तो गाड़ी को कलर करने के लिए एक गराज में दिया और बाद में जब उन्हें सूचना मिली कि उनके एक साथी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, तो उन्होंने उस गाड़ी को कटवा कर उसके हर पुर्जे को बेचवा दिया, ताकि किसी को यह ना पता चल सके की गाड़ी कहां गई।

वहीं वह कहते हैं ना की हर शातिर चोर कुछ न कुछ सुराग अपने पीछे छोड़ कर जाता ही है। यही वजह है कि आज एक बार फिर पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। इस घटना के उद्भेदन के बाद ना सिर्फ एक कांड का उद्भेदन हुआ है, बल्कि सड़क लूट कांड में शामिल अन्य अपराधियों को भी यह संदेश मिला है कि, लूट के बाद कोई भी अपराधी पुलिस की निगाह से और पुलिस की पहुंच से बच नहीं पाएगा।


Find Us on Facebook

Trending News