सिख समुदाय को मनाने के लिए पीएम ने चला बड़ा दांव, गुरू गोबिंद सिंह जयंति पर की यह बड़ी घोषणा, सवाल क्या खत्म होगी नाराजगी

सिख समुदाय को मनाने के लिए पीएम ने चला बड़ा दांव, गुरू गोबिंद सिंह जयंति पर की यह बड़ी घोषणा, सवाल क्या खत्म होगी नाराजगी

NEW DELHI : पंजाब में होनेवाले विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। सभी पार्टियों चुनाव में जीत हार के दावे करने लगी है। लेकिन पंचाब चुनाव को लेकर सबसे ज्यादा परेशानी भाजपा को है। जिसे दूर करने के लिए प्रधानमंत्री ने बड़ा दांव चल दिया है। प्रधानमंत्री ने आज दशमेश गुरू गुरू गोबिंद सिंह (Guru Gobind Singh) जी के प्रकाश पर्व के अवसर पर सिख समुदाय की नाराजगी को दूर करने की कोशिश की है। उन्होंने घोषणा की है कि हर साल 26 दिसंबर को 'वीर बाल दिवस' (Veer Bal Diwas) के रूप में मनाया जाएगा। उन्होंने लिखा है कि यह साहिबजादों (Saahibjaade) के साहस के लिए एक उचित श्रद्धांजलि है. 


ट्विट कर दी जानकारी 26 दिसंबर को 'वीर बाल दिवस' मनाने का ऐलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने ट्वीट कर दी इसकी जानकारी दी, उन्होंने लिखा कि 'वीर बाल दिवस उसी दिन मनाया जाएगा, जब साहिबजादा जोरावर सिंह जी और साहिबाजादा फतेह सिंह जी ने दीवार में जिंदा चिनवा दिए जाने के बाद शहीदी प्राप्त की थी। इन दो महान हस्तियों ने धर्म के महान सिद्धातों से विचलित होने के बजाए मौत को चूना।' प्रधानमंत्री ने कहा 'माता गुजरी, श्री गुरू गोबिंद सिंह जी और चार साहिबजादों की बहादूरी और आदर्शों ने लाखों लोगों को ताकत दी। उन्होंने कभी अन्याय के आगे सिर नहीं झुकाया। उन्होंने समावेशी और सौहार्दपूर्ण विश्व की कल्पना की।'



पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें हमेशा इस बात की खुशी रहेगी कि उनकी सरकार को गुरू गोबिंद सिंह का 350वां प्रकाश उत्सव मनाने का अवसर मिला। प्रधानमंत्री ने इस दौरान 2017 में पटना में आयोजित 350वें प्रकाश उत्सव की कुछ तस्वीरें भी साझा की है।


अमरिंदर सिंह ने किया स्वागत

26 दिसंबर को वीर बाल दिवस मनाने के फैसले का गृहमंत्री अमित शाह और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने स्वागत किया है. देश के गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि, 'वीर बाल दिवस' मनाने के निर्णय से चार साहिबजादों की राष्ट्रभक्ति से न सिर्फ आज करोड़ों बच्चे प्रेरणा लेकर राष्ट्रसेवा में अपना योगदान दे पाएंगे बल्कि आने वाली पीढ़ियों तक उनका बलिदान याद किया जाएगा. इसके लिए मोदी जी का अभिनंदन करता हूं. देश और धर्म की रक्षा के लिए 4 साहिबजादों और माता गुजरी का अतुलनीय बलिदान और राष्ट्रभक्ति देश की धरोहर है.

सिख समुदाय को मनाने की कोशिश 

पिछले कुछ समय से सिख समुदाय में पीएम मोदी को लेकर नाराजगी है। पहले कृषि कानून, फिर किसान आंदोलन और अब ताजा मामला प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक को लेकर जिस तरह से समुदाय को निशाना बनाया गया, उसके बाद बाल वीर दिवस मनाने की घोषणा करना सिख्ख समुदाय को मनाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। 


Find Us on Facebook

Trending News