मक्के की फसल बचाने के लिए दुकानदार की सलाह पर डाली निम्न क्वालिटी की दवा, अब आधी लगी फसल अब बनी मवेशियों का चारा

मक्के की फसल बचाने के लिए दुकानदार की सलाह पर डाली निम्न क्वालिटी की दवा, अब आधी लगी फसल अब बनी मवेशियों का चारा

KATIHAR : कटिहार के फलका प्रखंड अच्छे मक्का के उपजाऊ के लिए जाना जाता है, बड़ी संख्या में किसान यहां मक्का की खेती करते हैं, इस बार भी मक्का की फसल में कीड़ा न लगे इसके लिए किसानों ने स्थानीय बाजार से कीटनाशक पाउडर खरीद कर छिड़काव किया था मगर इस पाउडर से पूरे मक्का के फसल बर्बाद हो गया और अब किसानों के सामने मक्का की खेती मुसीबत बन हुआ है, इसलिए किसान इस पर मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

लहलहाते फसल के साथ गोल्डन दाना कहे जाने वाले मक्का के अच्छे उपज की उम्मीद से कटिहार फलका प्रखंड के सल्हेपुर,महेशपुर और राजधानी जैसे गांव में किसानों ने सैकड़ों एकड़ में मक्का की खेती किया था, हर साल मक्का में कीड़ा लगने से प्रारंभिक स्तर में ही फसल बर्बाद हो जाता है, इसलिए इससे बचने के लिए इस बार किसानों ने फील्डर नमक कीटनाशक पाउडर का इस्तेमाल किया था,जिसकी खरीदारी किसान स्थानीय दुकान से ही दुकानदारों के सलाह पर किया था मगर अब इस पाउडर के इस्तेमाल से मक्का के खेत पूरी तरह बर्बाद हो गया है, 

मवेशियों का भोजन बना

आलम ये है कि मक्का के बर्बाद पौधे को खेत से उजाड़ने के लिए मक्का लगे खेत को ट्रैक्टर से जोता जा रहा है, साथ ही खेत मे बर्बाद पौधों को अब किसान मवेशियों को चारा बनाकर खिलाने के लिए मजबूर है, मक्का किसान अब ऐसे हालात के बाद आगे परेशान हैं कि उनकी खेती और घर कैसे चलेगा, किसान इसके लिए अब मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

वहीं कटिहार फलका प्रखंड के मक्का किसानों की इस हालात पर सहकारिता मंत्री सा कटिहार के प्रभारी मंत्री सुरेंद्र यादव ने कहा कि अब मामला उनके संज्ञान में आया है इस पर जानकारी लेकर समुचित व्यवस्था किया जाएगा।

गौरतलब है कि मक्का के अच्छे उपजाऊ के लिए कटिहार के फलका प्रखंड को मक्का अंचल कहा जाता है मगर इस बार मक्का को कीड़ों से बचाव के लिए कीटनाशक पाउडर के छिड़काव से जिस तरह से मक्का की फसल बर्बाद हुआ है, उस पर सरकार अगर सुदी नहीं लेता है तो मक्का अंचल किसान खून के आंसू रोने को मजबूर हो जाएंगे।


Find Us on Facebook

Trending News