बिहार के इंजिनियर की रिहाई के लिए पप्पू यादव की कोशिश - उल्फा चीफ से की बात, कहा- उसे छोड़ दो, वह बहुत गरीब है

 बिहार के इंजिनियर की रिहाई के लिए पप्पू यादव की कोशिश - उल्फा चीफ से की बात, कहा- उसे छोड़ दो, वह बहुत गरीब है

पटना। पिछले दिनों अरुणाचल प्रदेश में बिहार के अलौली बखरी रोड में अलौली थाना अंतर्गत बहादुरपुर ग्राम निवासी राजकुमार शर्मा का बीते दिन अरुणाचल प्रदेश में उल्फत जैसे उग्रवादी संगठन ने अपहरण कर लिया था, जिसकी रिहाई के लिए  अब जाप प्रमुख ने अपनी कोशिशें  तेज कर दी है। इस कड़ी में जहां उन्होंने अरुणाचल प्रदेश के सीएम प्रेमा खांडू से बात की है, वहीं उग्रवादी संगठन के कंमाडर इन चीफ परेश बरूआ से भी फोन पर बात कर इंजिनियर को छोड़ने की मांग की है। 

इस बातचीत में पप्पू यादव से यह कहते साफ देखे जा सकते हैं कि अपहृत इंजिनियर बेहद गरीब परिवार से है, उसे छोड़ दें, आपके और तेल कंपनी की लड़ाई में उस लड़के को कुछ नहीं होना चाहिए। इस दौरान उल्फा चीफ यह कहते नजर आ रहे हैं कि आप मुझसे सीधे बात नहीं कर सकते हैं, मैं खुद आपको कॉल करुंगा। वहीं पप्पू यादव यह कहते हैं कि वह लड़का बेहद गरीब है। वहीं उल्फा चीफ ने कहा कि मुझे मालूम है कि वह इनोसेंट परिवार से है, लेकिन उसे कंपनी ने ऐसा बना दिया है, वह कहते हैं कि देश में डेमोक्रेसी नहीं है, यहां गरीब की कीमत कुछ नहीं है, मैं पहले से यह कहता रहा हूं। नीतीश कुमार और बिहार के लोगों को यह सोचना चाहिए। परेश बरुआ यह कहते हैं कि आप अरुणाचल सरकार और तेल कंपनी से बात कर हमें बताएं कि वह क्या कहते हैं।

मामले पप्पू यादव ने बताया कि आज हम उल्फा के चीफ परेश बरुआ से बात कर राजकुमार शर्मा की रिहाई के लिए मांग किए। हम लगातार अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री Pema Khandu और उल्फा के कमांडर इन चीफ परेश बरुआ और ऑयल कंपनी के डायरेक्टर Subrata Paul से वार्ता कर रहे हैं। उल्फा के कमांडर इन चीफ परेश बरुआ ने कहा कि अगर हमारी मांग ऑयल कंपनी के डायरेक्टर ने नहीं मानी तो हम राजकुमार शर्मा को जान से मार देंगे। हमारी कोशिश है कि हम राजकुमार शर्मा को जल्दी ही रिहा कर बिहार वापस ले आयेंगे।

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के किप्पो आयल एंड गैस इंफ्रास्ट्रक्चर में काम करनेवाले रेडियो ऑपरेटर राम कुमार का अपहरण 21 दिसंबर 2020 को असम के प्रतिबंधित उल्फा उग्रवादी संगठन के द्वारा किया गया था। जिसके बाद से लगातार परिजन रामकुमार की रिहाई के लिए गुहार लगा रहे हैं, लेकिन अब तक सरकार की नींद नहीं खुली है। असम के प्रतिबंधित उल्फा उग्रवादी संगठन द्वारा अपहृत रेडियो ऑपरेटर रामकुमार का वीडियो बनाकर भी परिवार के लोगों को भेजा गया है। इसमें रामकुमार के द्वारा सरकार से बचाने की गुहार लगाई जा रही है।


Find Us on Facebook

Trending News