PM किसान सम्मान निधि योजना के तहत बिहार के 83.53 लाख किसानों को मिले 1670 करोड़ रुपये- अमरेन्द्र प्रताप सिंह

PM किसान सम्मान निधि योजना के तहत बिहार के 83.53 लाख किसानों को मिले 1670 करोड़ रुपये- अमरेन्द्र प्रताप सिंह

पटना. बिहार के कृषि मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत बिहार के 83,53,270 लाभार्थी किसानों के बैंक खाते में 16,70,65,40,000 रुपये ट्रांसफर किये हैं। इसके लिए कृषि मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत वेब कास्टिंग के माध्यम से देश के 10 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों के खाते में अगली किस्त के रूप में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि हस्तांतरित किया गया है।

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री किसान निधि (पीएम-किसान) देश के सभी रैयत किसानों के परिवारों को आय सहायता प्रदान करने की दृष्टि से केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित योजना है। योजना का मुख्य लक्ष्य किसानों की आय दुगनी करने की भारत सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। इस योजना पर खर्च होने वाली शत-प्रतिशत राशि केंद्र सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। यह योजना वर्ष 2018-19 में 1 दिसंबर से लागू की गयी थी।

फल एवं सब्जी बिक्री केन्द्र का उद्घाटन

इस दौरान मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने आज पंत भवन, बेली रोड, पटना में सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस (देसरी/चण्डी) से संबद्ध उद्यानिक उत्पाद (फल एवं सब्जी) बिक्री केन्द्र का उद्घाटन किया गया। साथ ही मंत्री द्वारा बिहार कृषि डायरी 2022 का लोकार्पण भी किया गया है। मंत्री ने कहा कि नववर्ष 2022 के शुभ अवसर पर पटनावासियों के लिए उद्यान निदेषालय, कृषि विभाग द्वारा पंत भवन, बेली रोड, पटना के कैम्पस में राष्ट्रीय बागवानी मिशन के अन्तर्गत एसी रिटेल आउटलेट की स्थापना की गई है। इसका नामकरण ‘‘उद्यानिक उत्पाद बिक्री केन्द्र’’ किया गया है। इस सेन्टर का क्षेत्रफल योजना अनुरूप 12 फीट है एवं इसकी भंडारण क्षमता 9 मेट्रिक टन है। इसमें मुख्य रूप से जैविक एवं उच्च गुणवत्ता वाले फल एवं सब्जी का बिक्री की जायेगी।

उन्होंने कहा कि सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, चण्डी, नालन्दा द्वारा उत्पादित उच्च गुणवत्तायुक्त सब्जियाँ यथा लाल, पीला एवं हरा षिमला मिर्च, चेरी टमाटर, बीज रहित खीरा, लैटयूस, पीला एवं बैंगनी फूलगोभी, रेड पत्ता गोभी, ब्रोकली, मशरूम इत्यादि एवं हाईटेक नर्सरी में उत्पादित सब्जी पौध का बिक्री किया जायेगा। सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, देसरी, वैशाली द्वारा उत्पादित फल एवं फल पौध यथा पपीता, आम, लीची, जामुन, बेर, अमरूद, केला, स्ट्राबेरी इत्यादि का बिक्री किया जायेगा। यहां बिहार राज्य बीज एवं जैविक प्रमाणन द्वारा उत्पादित जैविक सब्जी का भी बिक्री की जायेगी। उन्होंने कहा कि बिहार राज्य उद्यानिक उत्पाद विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत जिलावार चिन्हित विशष उद्यानिक फसलों का वैल्यू ऐडेड प्रोडक्ट को भी भविष्य में शामिल कर इस केन्द्र से बिक्री की व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी। उद्यान निदेशालय के अन्तर्गत सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, चण्डी, नालन्दा एवं देसरी, वैशाली को पीपीपी मोड पर संचालित कर रहे भेंडर कम्पनी द्वारा इसका संचालन किया जायेगा।

कृषि मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजनान्तर्गत एसी रिटेल आउटलेट के संस्थापन के लिए निर्धारित कुल इकाई लागत 15 लाख रूपये का व्यक्तिगत कृषक/उद्यमी के लिए 50 प्रतिशत एवं एफपीओ/एफपीसी के लिए 75 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि कोई भी कृषक/ कृषक समूह/उद्यमी/सार्वजनिक क्षेत्र की इकाईयों/सहकारी संस्थाओं/पंजीकृत सोसायटी इत्यादि इस योजना का लाभ ले सकते हैं। 

बिहार कृषि डायरी का लोकार्पण

कृषि मंत्री सिंह ने कहा कि आज कृषि विभाग द्वारा प्रकाशित बिहार कृषि डायरी, 2022 का लोकार्पण किया गया है। इस डायरी में खाद्यान्न एवं बागवानी फसलों की तकनीकी जानकारी के साथ-साथ प्रत्येक माह में कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों में किये जाने वाले महत्त्वपूर्ण कृषि कार्यों का भी वर्णन किया गया है। कृषि डायरी में तकनीकी जानकारी के साथ-साथ विभाग द्वारा संचालित सरकार की महत्त्वाकांक्षी योजनाओं को समाहित किया गया है। साथ ही, इस डायरी में विभाग के मुख्यालय से लेकर जिला स्तर तक के विभागीय पदाधिकारियों का सम्पर्क-सूत्र को शामिल किया गया है, जिससे यह डायरी राज्य के पदाधिकारियों एवं प्रसार कार्यकर्ताओं के लिए काफी सूचनाप्रद साबित होगी। इस डायरी को कृषि विभाग के मुख्यालय से लेकर पंचायत स्तर तक के सभी पदाधिकारियों एवं प्रसारकर्मियों को उपलब्ध कराया जायेगा।

Find Us on Facebook

Trending News