हफ्ते भर में ही होने लगा आभास! CM नीतीश के कहने पर 'तेजस्वी' ने RJD कोटे के मंत्रियों को दी हिदायत ?

हफ्ते भर में ही होने लगा आभास! CM नीतीश के कहने पर 'तेजस्वी' ने RJD कोटे के मंत्रियों को दी हिदायत ?

PATNA: नीतीश कुमार ने भाजपा से हाथ छुड़ाकर तेजस्वी यादव से हाथ मिला लिया। उन्होंने आठवीं दफे 10 अगस्त को बिहार के मुख्य़मंत्री पद की शपथ ली है। सीएम नीतीश ने तेजस्वी यादव को डिप्टी सीएम बनाने के साथ-साथ चार बड़े विभागों की जिम्मेदारी दी। नीतीश कैबिनेट में राजद कोटे से कुल 17 मंत्री बने हैं। 16 अगस्त को मंत्रियों के शपथ ग्रहण के बाद से ही सीएम नीतीश की यूएसपी पर ग्रहण लग गया है। पांच करोड़ के चावल घोटाले के आरोपी को कृषि विभाग का मंत्री बना दिया गया। अपहरण के आरोपी जिनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट है उन्हें राज्य का कानून मंत्री बना दिया गया। सरकारी मीटिंग में लालू प्रसाद के दामाद को बिठाया जाने लगा। राजद कोटे के मंत्री खुल्लमखुल्ला गाली देने लगे।  इन तमाम खबरों के बाद नीतीश कुमार की 17 सालों की यूएसपी खतरों में आ गई है। जेडीयू नेताओं को जवाब देते नहीं जुट रहा। हफ्ते भर में ही जेडीयू नेताओं को फिर से पुरानी बातें याद आने लगी है। 

हफ्ते भर में ही परेशान हो गए सीएम नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही राजद के साथ मिलकर सरकार बना लिये हों लेकिन उनकी मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही। राजद कोटे के मंत्रियों के आचरण की वजह से सरकार टेंशन में है। नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू भी ताकतवर सहयोगी राजद कोटे के मंत्रियों से थोड़े दिनों में ही परेशान हो उठी है। सरकारी मीटिंग में तेजप्रताप यादव द्वारा अपने जीजा को बिठाने के बाद तो हद हो गया। जेडीयू को न तो उगलते बन रहा न निगलते। लिहाजा इस प्रकरण पर जेडीयू के अधिकांश नेता चुप रहने में ही अपनी भलाई समझ रहे। सहकारिता मंत्री सुरेन्द्र यादव की गाली प्रकरण पर भी जेडीयू नेता बोलने से बच रहे हैं। यानी जेडीयू के नेता भारी दबाव में हैं। अब तेजस्वी यादव सामने आये हैं और राजद कोटे के मंत्रियों को हिदायत दी है।

नीतीश के कहने पर तेजस्वी ने मंत्रियों को दी हिदायत?   

मंत्रियों को लेकर रोज नई-नई खबरे सामने आ रही है, उसके बाद सीएम नीतीश कुमार टेंशन में हैं। वे अपनी कैबिनेट के मंत्रियों को कुछ नहीं पा रहे। ऐसे में राजद कोटे के मंत्रियों को नियंत्रण में रखने के लिए तेजस्वी यादव को आगे किया है। सूत्र बताते हैं कि अगर राजद कोटे के मंत्रियों को अभी से नियंत्रित नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में और बड़ी खबर सामने आ सकती है। यही वजह है कि समय रहते नीतीश कुमार ने अपने डिप्टी सीएम को आगे किया है। तेजस्वी यादव ने राजद कोटे के सभी मंत्रियों को छह प्रकार की हिदायत दी है। सरकार की एक बड़ी चिंता भ्रष्टाचार भी है। लिहाजा तेजस्वी ने कहा है कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में ईमानदारी, पारदर्शिता से काम करें।

राजद कोटे के मंत्रियों के लिए गाइडलाइन 

1. सरकार में राष्ट्रीय जनता दल के कोटे से बने मंत्री विभाग में अपने लिए कोई नई गाड़ी नहीं खरीदेंगे।

2. राष्ट्रीय जनता दल के मंत्री उम्र में उनसे बड़े कार्यकर्ता, शुभचिंतक, समर्थक या किसी भी अन्य व्यक्ति को पाँव नहीं छूने देंगे। शिष्टाचार और अभिवादन के लिए हाथ जोड़कर प्रणाम, नमस्ते व आदाब की परंपरा को ही बढ़ावा देंगे।

3. सभी मंत्रियों से आग्रह है कि उनका सभी के साथ सौम्य और शालीन व्यवहार हो तथा बातचीत सकारात्मक रहे।सादगी से पेश आते हुए सभी जाति/धर्म के गरीब एवं जरुरतमंद लोगों को अविलंब प्राथमिकता के आधार पर मदद करेंगे।

4. किसी से भेंट स्वरूप पुष्पगुच्छ/गुलदस्ता लेने-देने के स्थान पर किताब-कलम के आदान-प्रदान को बढ़ावा देंगे। और इस आशय का आग्रह लगातार करेंगे।

5. सभी विभागीय कार्यों में माननीय मुख्यमंत्री के नेतृत्व में ईमानदारी, पारदर्शिता, तत्परता और त्वरित क्रियान्वयन की कार्यशैली को बढ़ावा देंगे।

6. सभी मंत्रीगण मुख्यमंत्री जी, बिहार सरकार एवं अपने अधीनस्थ विभागों, कार्य योजनाओं और विकास कार्यों का सोशल मीडिया पर लगातार प्रचार-प्रसार करेंगे ताकि जनता को आपके हरेक पहलकदमी की सकारात्मक जानकारी प्राप्त हो सके।

Find Us on Facebook

Trending News