UP NEWS: यह ग्राफ है खतरनाक! बीते 10 दिनों में 32 बच्चों की मौत.... कहीं यह तीसरी लहर के आने का संकेत तो नहीं?

UP NEWS: यह ग्राफ है खतरनाक! बीते 10 दिनों में 32 बच्चों की मौत.... कहीं यह तीसरी लहर के आने का संकेत तो नहीं?

N4N DESK: आगरा से करीब 35 किलोमीटर कि दूरी पर स्थित फिरोजाबाद से चौंका देने वाली खबर सामने आ रही है। खबरों पर विश्वास करें तो लगभग 10 दिनों मे लगभग 32 बच्चों की मौत हो चुकी है। हालांकि इस पर स्पष्टता इसलिए नहीं बन पा रही है क्योंकि अलग- अलग मीडिया रिपोर्ट्स में अलग-अलग संख्या दिखाई जा रही है। 

एक रिपोर्ट के मुताबिक मरने वालों की संख्या 53 हो गई है, जिनमे से 45 बच्चे हैं। अभी तक उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा इन आंकड़ों की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। कोरोना की संख्या में जैसे बदलाव देखे जा रहा थे ठिक वैसे ही इन संख्याओं में बदलाव देखा जा रहे हैं। ऐसे में उत्तर प्रदेश की जनता वहां के प्रशासन पर सवाल उठा रही है। प्रशासन से सवालात करने पर मालूम हुआ कि उन्हें यह डेंगू का प्रकोप लग रहा मगर अब तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। कई लोगों का तो यह भी मानना है कि यह कोरोना के तीसरी लहर के आने की भी संभावना हो सकती है। प्रशासन इस बीमारी का पहचान करने में अभी भी जूझ रही है।

सरकारी अस्पताल मे बुरे हुए हालात

फिरोजाबाद के हालात इतने गंभीर है कि शहर के सरकारी मेडिकल कॉलेज मे लगभग 185 बच्चों को भर्ती किया गया है। यह भी बताया जा रहा है कि शहर के सभी सरकारी अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं। स्थानीय डॉक्टरों का यह भी कहना है कि बच्चों में लक्षणों की शुरुआत बुखार, दस्त और उल्टियों से हो रही हैं। बच्चों की कोविड जांच भी की जा रही है लेकिन अभी तक इनमें कोविड का कोई मामला सामने नहीं आया है। 

इस मामले को लेकर आगरा के डिवीजनल कमिश्नर अमित गुप्ता ने मीडिया को बताया कि फिरोजाबाद मे पिछले एक हफ्ते मे लगभग 40 लोगों कि मौत हो चुकी है। जिसका प्राथमिक कारण डेंगू हो सकता है, मगर निश्चित रूप से अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है। 

1 सितंबर से खुलने थे स्कूल 

उत्तर प्रदेश में 1 सितंबर से कक्षा एक से पांचवी तक के स्कूल खुलने वाले थे, मगर राज्य की बिगड़ती स्थिति देखकर अभी कुछ दिनों तक स्कूल बंद रखने कि घोषणा जिला प्रशासन ने की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 30 अगस्त को फिरोजाबाद दौरे पर गए थे और स्थिति से निपटने की तैयारी का जायजा भी लिया था। 

मथुरागोरखपुर संग अन्य जगहों पर भी मौत

मथुरा से भी कुछ लोगों की मौत की खबर आई थी लेकिन इसके लिए स्क्रब टाइफस नाम की बीमारी को जिम्मेदार पाया गया है। यह भी डेंगू की ही तरह एक वेक्टर जनित बीमारी होती है लेकिन यह वायरस की जगह बैक्टीरिया की वजह से होती है। वहीं पश्चिमी उत्तर प्रदेश का गोरखपुर इलाका जापानी इंसेफेलाइटिस बीमारी के प्रकोप की वजह से सालों से बदनाम है। वहां हर साल कई बच्चों की जान इस बीमारी के कारण चली जाती है, लेकिन फिरोजाबाद के लिए मौजूदा संकट एक नई समस्या है। वहां पर रहने वाले लोगों का कहना है कि ऐसी बीमारी का अनुभव उन्होंने पहली बार किया है।

Find Us on Facebook

Trending News