विपक्षी पार्टियों की बैठक में शामिल हुए तेजस्वी यादव, कहा बिहार और बंगाल ने दिखाया भाजपा से कैसे लड़ा जा सकता है

विपक्षी पार्टियों की बैठक में शामिल हुए तेजस्वी यादव, कहा बिहार और बंगाल ने दिखाया भाजपा से कैसे लड़ा जा सकता है

PATNA : आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के द्वारा विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाई गयी थी। जिसमें बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी शामिल हुए। जिसमें उन्होंने कई बिन्दुओं पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा की 2024 में विपक्ष की क्या रणनीति होगी? उस पर अभी से तैयारी करनी चाहिए। विगत 7 वर्षों में विपक्ष एक ही तरीक़े से चुनाव लड़ रहा है। उन्होंने कहा की विपक्ष अपने अजेंडे पर चुनाव लड़ें। मुद्दों में धार और नयापन लाने की ज़रूरत है। बिहार और बंगाल ने दिखाया भाजपा से कैसे लड़ा जा सकता है।

महंगाई, बेरोज़गारी और सरकार की जनविरोधी नीतियों से मध्यम वर्ग त्रस्त है। राजद ने चुनाव नतीजों के बाद से ही किसानों, मज़दूरों, बेरोजगारों, महंगाई और जातिगत जनगणना को लेकर सड़क से लेकर सदन और संसद तक प्रदर्शन किया है। विपक्ष को सड़क पर आना ही होगा। जीत-हार चुनाव नतीजों के बाद से ही विपक्ष को अगले चुनाव की तैयारी करनी चाहिए। चुनाव से चंद दिन पहले ही गठबंधन होने से कार्यकर्ताओं और मतदाताओं में भ्रम की स्थिति उत्पन्न होती है। जो भी गठबंधन और उससे संबंधित सहमति हो, वह तय समय सीमा में चुनाव से पूर्व ही बने।

तेजस्वी ने कहा की विपक्ष के पास असंख्यक मुद्दे है, लेकिन हम मुद्दों को लोगों की नाराज़गी के अनुपात में भुना नहीं पा रहे है। विपक्ष में निरंतर संवाद की कमी है। राष्ट्रीय स्तर के साथ साथ राज्य स्तर पर विपक्ष का साँझा कार्यक्रम तय होना चाहिए। विपक्ष को एक विकल्प पेश करना चाहिए कि हम सब साथ है। क्या हमारा कार्यक्रम है। क्या हमारी योजना और विजन है। जिन राज्यों में क्षेत्रीय पार्टियाँ मजबूत है। उन्हें वहाँ ड्राइविंग सीट पर बैठाना चाहिए।

तेजस्वी ने कहा की विपक्ष के सभी दल जातिगत जनगणना को मुद्दा बनाए। यूपीए ने 2011 की जनगणना में आर्थिक शैक्षणिक जातीय गणना के आँकड़े इकट्ठे करवाए, लेकिन भाजपा सरकार ने उन आँकड़ों को सार्वजनिक नहीं किया। विपक्ष को जातीय जनगणना पर एक होकर सरकार पर दबाव बनाना चाहिए। यह महत्वपूर्ण मुद्दा है।

पटना से विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News