एलएन मिश्र कॉलेज ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट में मनाई गई वीणा मिश्र की 76 वीं जयंती, वक्ताओं ने की व्यक्तित्व और कृतित्व की सराहना

एलएन मिश्र कॉलेज ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट में मनाई गई वीणा मिश्र की 76 वीं जयंती, वक्ताओं ने की व्यक्तित्व और कृतित्व की सराहना

PATNA : आज ललित नारायण मिश्र कॉलेज ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट, मुजफ्फरपुर के प्रांगण में महाविद्यालय की संस्थापक सदस्या वीणा मिश्र की 76वीं जयन्ती मनाई गई। इस अवसर पर उनके प्रतिमा पर माल्यार्पण कर महाविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों द्वारा श्रद्धांजली अर्पित की गई। महाविद्यालय के कुलसचिव डा॰ कुमार शरतेन्दु शेखर ने उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि महाविद्यालय की संस्थापक सदस्या वीणा मिश्र का जन्म एक ऐसे परिवार में हुआ, जिसकी ख्याति शिक्षा एवं संस्कृति के क्षेत्र में दूर-दूर तक फैली थी। गुरूदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर के साथ विश्व प्रसिद्ध शांति निकेतन में इनके पितामह अध्यापन कार्य करते थे। इनके पिता स्व॰ गौरी नाथ मिश्र भी प्राध्यापक थे। बांकीपुर गर्ल्स हाई स्कूल में पढ़ाई करते हुए इनका विवाह डा॰ जगन्नाथ मिश्र  के साथ हुआ था। विवाह के उपरान्त भी शिक्षा प्राप्ति की इनकी रूची बनी रही और पारिवारिक कर्त्तव्यों का निर्वहन करते हुए इन्होंने अर्थशास्त्र में प्रथम श्रेणी में स्नातकोत्तर तक की उपाधि प्राप्त की। कालांतर में ये समाज सेवा से जुड़ी विभिन्न संस्थाओं को अपना योगदान एवं मार्गदर्शन प्रदान करती रही। उन्होंने कहा कि इस महाविद्यालय के स्थापना काल में उन्होंने डा॰ जगन्नाथ मिश्र  को पूर्ण सहयोग दिया एवं घर के वस्तुओं को भी महाविद्यालय के उपयोग के लिए प्रसन्नतापूर्वक समर्पित कर दिया।

इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रभारी प्राध्यापक डा॰ श्याम आनन्द झा ने कहा कि लोकनीति, सामाजिक विकास और नारी समानता वीणा मिश्र की रूचि के विषय रहे। सामाजिक और राजनीतिक जीवन में महिलाओं की उपेक्षा या आनुपातिक भागीदारी की कमी उन्हें खलती थी। उनकी दृष्टि में आधी आबादी को सम्मान दिए बगैर विकसित समाज या राष्ट्र की कल्पना अधूरी है। अध्यात्म, संस्कृति, समानता और संस्कार का आधार बिन्दु नारी को मानते हुए उनका साफ कथन था कि जहाँ नारी के प्रति सम्मान रहता है वही दैवीय शक्तियों का वास होता है। उनका मानना था कि आज नारी पुरूषों के समान ही सुशिक्षित, सक्षम एवं सफल बनना चाहती है। उन्नत राष्ट्र की कल्पना तभी यथार्थ का रूप धारण कर सकती है, जब महिलाएं भी सशक्त होकर राष्ट्र को सशक्त करें। आवश्यकता है नारी-शक्ति को प्रोत्साहन देने की। इसमें संदेह नहीं कि किसी भी समाज में जब महिलाओं की उन्नति हो जाती है तो उसके अन्य पक्ष अपने आप समृद्ध होने लगते हैं। उन्होंने कहा कि अनेक अवसरों पर वीणा मिश्र के व्यक्त विचार भावी पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्रोत बनेंगी।


इस अवसर पर महाविद्यालय के कुलसचिव डा0 कुमार शरतेंदु शेखर ने जानकारी दी की वीणा मिश्र के द्वारा बेटियों की शिक्षा के लिए किये गये अथक और सराहनीय कार्य को जारी रखते हुए ललित नारायण मिश्र कॉलेज ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट के द्वारा बी॰बी॰ए॰ और बी॰सी॰ए॰ में सबसे ज्यादा अंक प्राप्त कर उत्तीर्ण होने वाली छात्राओं स्वेता मोदी (बी॰बी॰ए॰ सत्र 2018-21) एवं पूजा कुमारी (बी॰सी॰ए॰ सत्र 2018-21) को ‘‘वीणा मिश्र स्मृति महिला सशक्तिकरण छात्रवृत्ति’’ के रूप में 50000/- रूपया (पचास हजार रू॰) दोनों छात्राओं को अपनी उच्च शिक्षा के लिए महाविद्यालय का वार्षिकोत्सव दिनांक 2 फरवरी 2022 को प्रदान की जाएगी।


Find Us on Facebook

Trending News