अपने ही विभाग के अधिकारी पर भड़के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, लोगों से कहा-ऐसे अधिकारी मिले तो जूता से मारिये

अपने ही विभाग के अधिकारी पर भड़के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, लोगों से कहा-ऐसे अधिकारी मिले तो जूता से मारिये

KAIMUR : बिहार सरकार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने एक बार फिर अपनी ही सरकार के अधिकारियों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा की गांव में कोई साधु संत आता है और महीनों खाकर जाता है। किसी को कोई दिक्कत नहीं होती है। लेकिन गांव का कोई किसान यदि पटना की गलियों में चला जाए तो उसे एक शाम की रोटी खिलाने वाले लोग नहीं मिलते ऐसे लोग बैठे हैं। लोग आपके लिए नीतियां बनाते हैं। हम ऐसे लोगों के बीच बैठकर काम करते हैं। जिनको आप के बारे में कोई चिंता नहीं है। 

सुधाकर सिंह ने कहा की हमारे कलम, हाथ और जुबान तीनों चलते हैं। शिकायतें हैं उन शिकायतों को मैं ठीक करूंगा। लेकिन जो शिकायतें पुरानी है उसे कैसे ठीक किया जाएगा। एक माप तोल वाला अधिकारी पेट्रोल टंकी पर जाकर 10 लीटर तेल भरवाया। लेकिन जब पैसा मांगा गया तो कहा की लिख लेना। मैंने उसे निलंबित कर दिया है। 2 दिन के भीतर यहां से चला जाएगा। 

उन्होंने लोगों से कहा की ऐसे अधिकारी दिख जाए तो उसे जूता से मारिये। उन्होंने कहा की कैसी हालत है मेरे विभाग की। 50 50 हजार रुपए दुकानों से वसूलता है। यह मैं खुलकर बोल रहा हूं। लेकिन आप गवाही नहीं करिएगा तो ऐसे लोग कैसे पकड़े जाएंगे। 

सुधाकर सिंह ने कहा कि थोड़ा वक्त दीजिए कृषि विभाग को सुधारने का। इतना गारंटी देता हूं की बीज और खाद समय पर दिलवा दूंगा। बाकी के बदलाव के लिए हम संघर्ष करेंगे। हम कई कानून ला रहे हैं। जिसमें सबसे बड़ा कानून किसानों के हित में मंडी कानून है जो खत्म हो गया है। वह तय है। हम एफपीओ पॉलिसी ला रहे हैं। पैक्स की जगह एफपीओ आएगा। कृषि निर्यात प्रोत्साहन कानून ला रहे हैं। बाजार समितियों को व्यवसायिक उपयोग के लिए कानून ला रहे हैं। उन्होंने कहा की जो   युवा कृषि को व्यवसाय बनाना चाहते हैं। वह हमसे जुड़ें। हम उनकी पूरी मदद करेंगे। वह व्यवसाय भी करें और अपने समाज और माता पिता की सेवा भी करें। 

रंजन की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News