बिहटा के एनएसएमसीएच में एनेस्थीसिया दिवस का हुआ आयोजन, पढ़िए पूरी खबर

बिहटा के एनएसएमसीएच में एनेस्थीसिया दिवस का हुआ आयोजन, पढ़िए पूरी खबर

PATNA : बिहटा स्थित नेताजी सुभाष मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनएसएमसीएच) में शुक्रवार को निश्चेतना दिवस (एनेस्थीसिया दिवस) मनाया गया. इस मौके पर अस्पताल के एनेस्थीसिया विभाग के द्वारा एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. 

गौरतलब है कि 16 अक्टूबर 1846 ई. को डॉ. डब्ल्यू टी.जी. मोर्टम ने निश्चेतना की शुरुआत ईथर देकर की थी. इसके बाद ही शल्य क्रिया में बिना दर्द के ऑपरेशन विकसित हो सका. निश्चेतना विभाग के प्राध्यापक डॉ. अजित गुप्ता और डॉ. शैलेश प्रसाद आदि ने बताया कि आज की जटिल शल्य क्रिया का श्रेय विकसित निश्चेतना विज्ञान को ही जाता है. 

यही नहीं आईसीयू (गहन देखरेख ईकाई) और कैंसर के दर्द का भी उपचार निश्चेतना के कारण ही सम्भव हो पाया. उन्होंने बताया की एनएसएमसीएच में शल्यक्रिया, निश्चेतना, आईसीयू आदि की विश्वस्तरीय सुविधा उपलब्ध है. निश्चेतना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में संस्थान के प्रबंध निदेशक कृष्ण मुरारी, प्राध्यापक डॉ. अरविंद कुमार, रणजीत कुमार, शशिकांत, बिंदिया एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे. 

कोरोना काल में भी इलाज जारी

बताते चलें की अस्पताल में कोरोना काल में भी लोगों का इलाज जारी है.अस्पताल का ओपीडी खुला हुआ है. साथ आपातकालीन सेवा भी 24 घंटा जारी है. हर तरह के ऑपरेशन भी अस्पताल में किए जा रहे हैं. अस्पताल में हर तरह की जांच सुविधा उपलब्ध है. एम्बुलेंस सेवा भी 24 घण्टे मौजूद है. जबकि अस्पताल में रोगियों के इलाज के लिए डॉक्टरों की अनुभवी टीम है. 

Find Us on Facebook

Trending News