लड़कियों को इंजीनियरिंग-मेडिकल कॉलेजों में 33 प्रतिशत आरक्षण पर बोले अशोक चौधरी, कहा सीएम का फैसला ऐतिहासिक

लड़कियों को इंजीनियरिंग-मेडिकल कॉलेजों में 33 प्रतिशत आरक्षण पर बोले अशोक चौधरी, कहा सीएम का फैसला ऐतिहासिक

PATNA : बिहार सरकार के भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राज्य के इंजीनियरिंग-मेडिकल कॉलेजों में 33 प्रतिशत सीट लड़कियों के लिए आरक्षित करने की घोषणा को ऐतिहासिक बताया है. साथ ही  मुख्यमंत्री के इस निर्णय को महिला सशक्तिकरण के प्रयासों हेतु महत्वपूर्ण मील का पत्थर कहा है तथा इस निर्णय हेतु ह्रदय से धन्यवाद दिया है. 

चौधरी ने कहा कि राज्य के इंजीनियरिंग एवं मेडिकल कॉलेजों में नामांकन में न्यूनतम एक तिहाई सीटें छात्राओं के लिए आरक्षित करने से इन कॉलेजों में छात्राओं की संख्या और बढ़ेगी. मुख्यमंत्री के इस निर्णय से राज्य की बच्चियों के लिए आत्मनिर्भरता का नया एवेन्यु खुलेगा, मार्ग प्रशस्त होगा. उन्होंने कहा कि विशाल क्षेत्रफल एवं जनसँख्या घनत्व वाले बिहार में आधी आबादी महिलाओं की है. हमारे दूरदर्शी मुख्यमंत्री का राज्य की गरीब बच्चियों के स्कूल जाने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए मुख्यमंत्री बालिका साइकिल योजना एवं पोशाक योजना जैसे निर्णय यह दर्शाते हैं कि किस संवेदनशीलता के साथ वो राज्य की आधी आबादी को आत्मनिर्भर एवं सशक्त बनाने हेतु प्रयासरत रहते हैं. 


भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि जिस तरह से आज़ादी के समय समाज के सबसे पिछड़े पायदान पर खड़े दलित वर्ग के लोगों को मुख्य धारा से जोड़ने के लिए आरक्षण की व्यवस्था की गई. उसी प्रकार आज़ादी के बाद वर्त्तमान में मुख्यमंत्री ने विभिन्न प्रोत्साहित करने वाली योजनाओं को लाकर राज्य की आधी आबादी को मुख्या धारा में लाने का काम किया है. इसी क्रम में हमारे नेता ने पंचायती राज व्यवस्था में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण देकर उनमें नेतृत्व क्षमता को उभारने का काम भी किया है. 

चौधरी ने कहा कि आज मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट में जिस प्रकार से बच्चियों की संख्या में लगातार वृद्धि हुयी है, अब माननीय मुख्यमंत्री ने के इंजीनियरिंग एवं मेडिकल कॉलेजों में नामांकन में न्यूनतम एक तिहाई सीटें छात्राओं के लिए आरक्षित करने का निर्णय कर उनकी आत्मनिर्भरता एवं सशक्तिकरण का नया मार्ग प्रशस्त किया है. हमारा राज्य देश का पहला ऐसा राज्य है जहाँ ये ऐतिहासिक निर्णय लिया गया है. जिसके लिए मैं अपने नेता को ह्रदय से धन्यवाद देता हूँ. मेरा ऐसा विश्वास है कि जिस प्रकार सीमित संसाधनों के साथ नीतीश कुमार के दूरदर्शी नेतृत्व में बिहार लगातार देश के लिए अनुकरणीय योजनाएं देता रहा है. इंजीनियरिंग-मेडिकल कॉलेजों में 33 प्रतिशत सीट लड़कियों के लिए देने का हमारे नेता का निर्णय भी पूरे देश में नज़ीर बनेगा और सम्पूर्ण राष्ट्र इसे अंगीकार करेगा. 

Find Us on Facebook

Trending News