एएसपी लिपि सिंह प्रकरण पर बिहार पुलिस मुख्यालय ने साधी चुप्पी...जेडीयू नेता की गाड़ी से अनंत सिंह का ट्रांजिट रिमांड लेने पहुंची थीं साकेत कोर्ट

एएसपी लिपि सिंह प्रकरण पर बिहार पुलिस मुख्यालय ने साधी चुप्पी...जेडीयू नेता की गाड़ी से अनंत सिंह का ट्रांजिट रिमांड लेने पहुंची थीं साकेत कोर्ट

PATNA: बाढ़ की एएसपी लिपि सिंह प्रकरण पर बिहार पुलिस मुख्यालय ने चुप्पी साध ली है।पुलिस मुख्यालय का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।डीजीपी और एडीजी हेडक्वाटर्र ने इस मुद्दे पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया है।मुख्यालय के बड़े हुक्मरान फोन नहीं उटा रहे।एडीजी हेडक्वार्टर ने पूरे मसले पर चुप्पी साध ली है।कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है।शायद उन्हें लगता है कि इस मुद्दे पर बोलना खतरे से खाली नहीं है।क्यों कि एक तरफ कुआं है तो दूसरे तरफ खाई..लिहाजा अधिकारियों ने मीडिया से दूरी बना ली है।

बता दें कि बिहार पुलिस मुख्यालय अनंत सिंह प्रकरण पर बोलने से बचते रहे हैं।शुक्रवार को जब अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में समर्पण किया था तब भी बिहार पुलिस मुख्यालय के अधिकारी बोलने से बच रहे थे।पुलिस मुख्यालय पूरे मसले से पल्ला जाडते हुए दिख रहा था।

बता दें कि बाढ़ की एएसपी लिपि सिंह जिस गाड़ी से अनंत सिंह को ट्रांडिट रिमांड पर लेने साकेत कोर्ट गई थींवह गाड़ी जेडीयू के एमएलसी रणवीर नंदन के नाम पर रजिस्टर्ड है।जांच में यह बात सामने आ रही है।लेकिन बड़ा सवाल यही है आकिर अगर गाड़ी रणवीर नंदन के नाम पर है तो फिर उनकी गाड़ी पर राज्यसभा सांसद का स्टीकर कैसे लगा? बता दें कि लिपि सिंह के पिता जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव हैं और राज्यसभा सांसद हैं।बताया जाता है कि गाड़ी भले हीं जेडीयू एमएलसी के नाम पर है लेकिन उसका उपयोग सांसद द्वारा हीं किया जाता था।उसी गाड़ी से लिपि सिंह साकेत कोर्ट पहुंची।

बड़ा सवाल यह भी है कि जब लिपि सिंह सरकारी ड्यूटी में गई थी तो फिर सत्ताधारी दल के सांसद या एमएलसी की गाड़ी को क्यों लेकर कोर्ट पहुंची।

Find Us on Facebook

Trending News