परिवार नियोजन के लिए लगा जागरुकता शिविर, महिलाओं को दी गई अनचाहे गर्भ से बचाव की जानकारी

परिवार नियोजन के लिए लगा जागरुकता शिविर, महिलाओं को दी गई अनचाहे गर्भ से बचाव की जानकारी

SUPOUL :  वैश्विक महामारी के इस दौर में प्रजनन स्वास्थ्य सेवाओं पर इसका विपरित असर पड़ा है। इससे मातृ-शिशु मृत्यु दर के प्रभावित होने की चुनौतियों को देखते राज्य स्वास्थ्य समिति आमजन को बेहतर मातृत्व-शिशु स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के प्रति प्रतिबद्ध है। इसके लिये परिवार नियोजन की भूमिका को महत्वपूर्ण मानते हुए नियोजन संबंधी विभिन्न उपायों के प्रति लोगों को जागरूक करने व योग्य दंपतियों को तत्क्षण इच्छित सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से सभी चिकित्सा संस्थानों में प्रत्येक माह के 21 तारीख को परिवार नियोजन दिवस के आयोजन का निर्देश राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा दिया गया है। जिसका शुरुआत मंगलवार को जिले के त्रिवेणीगंज अनुमंडलीय अस्पताल मे 21 सितम्बर को मनाया गया है। इसका उद्घाटन प्रभारी उपाध्यक्ष आरपी सिन्हा ने किया।

 साथ ही प्रभारी ने कहा प्रत्येक माह के 09 तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के दिन एएनसी के लिये आने वाली महिलाओं को प्रसव के उपरांत बच्चे के जन्म में अंतराल व अनचाहे गर्भ से बचाव के लिये गर्भनिरोध से जुड़े विभिन्न संसाधनों जरूरी परामर्श उपलब्ध कराकर जरूरी दिशा निर्देश भी दिये जाते हैं, बताया कि परिवार नियोजन संबंधी उपायों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिये प्रत्येक माह के 21 तारीख को परिवार नियोजन दिवस के रूप में मनाया जायेगा। इस विशेष दिन जिले से लेकर सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों के चिकित्सा संस्थानों में परिवार नियोजन सेवा संबंधी विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। 


वहीं परिवार कल्याण सलाहाकार  इशतिख अहमद ने बताया कि इस दिवस की मुख्य उद्देश्य है. मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने में भी परिवार नियोजन की सेवाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। बच्चों में कम से कम 3 साल के अंतराल के लिए परिवार नियोजन के साधन अपनाने पर खास ध्यान दिया जा रहा है।आम लोगों तक परिवार  नियोजन सेवाओं की आसान पहुंच से असुरक्षित गर्भपात के मामलों में कमी आयेगी, मातृत्व व शिशु मृत्यु दर में गिरावट, एचआईवी संक्रमण से बचाव, महिला सशक्तिकरण के साथ-साथ सामाजिक व आर्थिक विकास को तेज किया जा सकता है, कहा आयोजित होने वाले इस विशेष दिवस का क्षेत्र में व्यापक प्रचार प्रसार कराया जायेगा। आशा कार्यकर्ता, विकास मित्र, आंगनवाड़ी सेविका ए एन- के माध्यम से आम जनों की घर घर तक पहुंचाया जाएगा। त कि आनजनों इसका लाभ उठा सके। 

 इस अवधि में अस्पताल के सभी केन्द्रों पर परिवार नियोजन के सभी साधन जैसे, गर्भनिरोधक गोली आदि निःशुल्क दिए जाएंगे। अंतरा सुई बच्चों में अंतर रखने के लिए महिलाओं को तीन माह पर एक बार लेनी है। महिलाएं कॉपर टी लगवा सकती है। पुरुष नसबंदी भी पुरुष करवा सकते सकते है। इससे पुरुष के यौवन शक्ति में कोई परिवर्तन नही आएगा। आजीवन मनचाहा गर्भ से बचने के लिए महिलाओं का बंध्याकरण ऑपरेशन किया जाता है। मौके पर पुष्पा कुमारी, सविया कुमारी ,गीता कुमारी खुसबू  कुमारी मधुमाला कुमारी सानिया कुमारी आदि  मौजूद।

Find Us on Facebook

Trending News