68वीं बीपीएसी परीक्षा लेने से पहले आयोग ने अभ्यर्थियों को दिया अधिकार, परीक्षा को लेकर जो फैसला लेंगे वही होगा लागू

68वीं बीपीएसी परीक्षा लेने से पहले आयोग ने अभ्यर्थियों को दिया अधिकार, परीक्षा को लेकर जो फैसला लेंगे वही होगा लागू

PATNA : बिहार लोक सेवा आयोग 68वीं प्रारंभिक परीक्षा में तैयारी में जुटी है। परीक्षा में नए नियम लागू किए जाएंगे, इसको लेकर आयोग पहले ही घोषणा कर चुका है। अब बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 68वीं परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का स्वरूप कैसा हो, यह अभ्यर्थियों की राय से तय किया जाएगा। आयोग के अध्यक्ष अतुल प्रसाद ने बताया कि निगेटिव मार्किंग के प्रविधान लागू होंगे। इसके स्वरूप को लेकर अभ्यर्थियों को तीन विकल्प दिए जाएंगे। जिस पर उनका सर्वाधिक मत होगा, उसे लागू कर दिया जाएगा।

दिए गए तीन ऑप्शन

बीपीएससी ने ऑनलाइन आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों से उनकी राय लेने के लिए इसमें तीन विकल्प देने की बात कही है, जिस विकल्प को सर्वाधिक स्वीकार किया जाएगा, उसे निगेटिव मार्किंग के लिए लागू कर दिया जाएगा। किस स्वरूप को लागू किया जाना है, इसकी सूचना बीपीएससी की ओर से ऑनलाइन आवेदन की तिथि संपन्न होने के बाद दी जाएगी।

अगले सप्ताह जारी हो सकती है अधिसूचना

आयोग की ओर से 68वीं बीपीएससी में 50 स्टार मार्किंग प्रश्नों के अधिक अंक व निगेटिव मार्किंग की भी बात कही गई थी, जिस पर अभ्यर्थियों की ओर से विरोध दर्ज कराया गया था। अब निगेटिव मार्किंग को लेकर आयोग की ओर से नए सिरे से तैयारी की जा रही है। परीक्षा की अधिसूचना अब अगले सप्ताह में जारी हो सकती है। 

आनलाइन आवेदन की तिथि की घोषणा एक साथ

अमरेंद्र कुमार ने बताया कि 67वीं पीटी का परिणाम, मुख्य परीक्षा की तिथि व 68वीं संयुक्त परीक्षा के लिए आनलाइन आवेदन की तिथि की घोषणा एक साथ की जाएगी। इसकी घोषणा 15 नवंबर तक किए जाने की संभावना है। यदि किसी प्रकार की परेशानी हुई भी तो अगले एक-दो दिनों में घोषणा कर दी जाएगी।

अभ्यर्थियों के लिए विकल्प

1. केवल 50 स्टार मार्किंग वाले प्रश्नों की निगेटिव मार्किंग हो। इसके लिए दो अंक रखे जाएं और 0.50 निगेटिव मार्किंग के प्रविधान हों।

2. केवल 50 स्टार मार्किंग वाले प्रश्नों की निगेटिव मार्किंग हो। इसके लिए एक ही अंक रखे जाएं। इसमें 0.25 निगेटिव मार्किंग के प्रविधान हों।

3. सभी 150 प्रश्नों पर निगेटिव मार्किंग हो। इसके लिए 0.25 निगेटिव मार्किंग के प्रविधान हों। 

281 पदों के लिए परीक्षा का प्रस्ताव मिल चुका

आयोग की बैठक बीते सप्ताह हुई, जिसमें इसमें विभिन्न परीक्षाओं को लेकर स्टैंडर्ड आपरेटिंग प्रक्रिया (एसओपी) पर विमर्श किया गया, जिस पर आगे कार्य किया जाएगा। आयोग के सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि आयोग को 281 पदों के लिए परीक्षा का प्रस्ताव मिल चुका है। इसमें आठ पद पुलिस उपाधीक्षक के लिए हैं। इसके अतिरिक्त कमर्शियल टैक्स अधिकारी के सात, सहायक निर्वाचन के आठ, प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी के 40, आरडीओ के सात, उत्पाद अधिकारी के 20, प्रखंड अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण अधिकारी के 60, प्रखंड राजस्व अधिकारी के 39 सहित 280 पदों के लिए नियुक्तियां की जाएंगी। प्रारंभिक परीक्षा तक आने वाले प्रस्ताव को इसमें शामिल कर लिया जाएगा।



Find Us on Facebook

Trending News