भागलपुर को मोदी सरकार की बड़ी सौगात, 120 किमी सड़क के लिए 971 करोड़ मंजूर, तीन माह में शुरू होगा निर्माण

भागलपुर को मोदी सरकार की बड़ी सौगात, 120 किमी सड़क के लिए 971 करोड़ मंजूर, तीन माह में शुरू होगा निर्माण

Bhagalpur: बिहार में एनएच-80 मुंगेर-भागलपुर-पीररपैती-कहलगांव-मिर्जा चौकी (झारखंड) तक 120 किमी सीमेंट कंक्ररीट मार्ग बनेगा. इसके लिए केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 971 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की गयी है. यह मार्ग 2-लेन पेव्ड शोल्डर बनाया जाएगा और आवश्यकता अनुसार कुछ जगहों पर मार्ग को 4-लेन भी किया जायेगा. 

इसके पहले सड़क की मरम्मत के लिए मंत्रालय द्वारा 20 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं. केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सड़क निर्माण का काम तीन माह में शुरू करने के निर्देश दिए हैं. गौरतलब है की इस मार्ग पर प्रतिदिन 25 हजार वाहन चलते हैं. यह व्यावसायिक कार्यों का मुख्य मार्ग है. 

मुंगेर-भागलपुर मार्ग में हो रही असुविधा को देखते हुए केन्द्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने नया मार्ग बनाने का निर्णय लिया है. जिसके लिए 971 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं. इस राशि से 120 किमी सीमेंट रोड बनायी जाएगी. 10 मीटर चौड़ाई के साथ इस सड़क को जरूरत के हिसाब से कुछ जगहों पर चार लेन भी किया जाएगा. तीन लेन यानी 2-पेव्ड शोल्डर सड़क निर्माण से बिहार की व्यावसायिक गतिविधि को बल मिलेगा. इस मार्ग के बन जाने से सुल्तानगंज में राज्य सरकार द्वारा बनाए जा रहे बिज्र से खगड़िया को कनेक्टविटी मिल जाएगी तथा वहां से आने वाले करीब 6 हजार वाहन इस मार्ग पर और बढ़ जाएंगे. 

इसके पहले सड़क मरम्मत का कार्य किया जाएगा, जिसमें 20 करोड़ की धनराशि खर्च की जाएगी. सड़क मरम्मत का कार्य बिहार सरकार की आरसीडी करेगी. मुंगेर से भागलपुर होकर कहलगांव से झारखंड के मिर्जा चौकी तक का मार्ग खराब हालत में होने के कारण लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. यह बिहार का सबसे व्यस्त मार्ग है. मिर्जा चौकी से पूरे बिहार, नेपाल, पश्चिम बंगाल की पत्थर आपूर्ति का यह प्रमुख मार्ग है. कहलगांव एनटीपीसी से सहरसा, मधेपुरा, बेगूसराय, पूर्णिया, किशनगंज फ्लाईएस लेकर जाने का भी यही मार्ग है. पर्यटन की दृष्टि से भी यह मार्ग काफी महत्वपूर्ण है. भागलपुर के विक्रमशिला विश्वविद्यालय जाने वाले लोगों को भी मार्ग खराब होने से असुविधा का सामना करना पड़ता है. मार्ग की मरम्मत हो जाने से लोगों को राहत मिलेगी. इस मार्ग के महत्व को ध्यान में रखते हुए मंत्रालय ने इसे सीमेंट कंक्ररीट सड़क बनाने का निर्णय लिया है. केन्द्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने नयी सड़क निर्माण का कार्य तीन माह के अंदर शुरू करने के निर्देश दिए हैं.

Find Us on Facebook

Trending News