बिहार विधानसभा चुनाव में 'इस' मामले में बीजेपी से काफी आगे निकली JDU,जानिए.......

बिहार विधानसभा चुनाव में 'इस' मामले में बीजेपी से काफी आगे निकली JDU,जानिए.......

पटनाः बिहार में विधानसभा चुनाव के परिणाम आ गए हैं। 2020 के चुनाव परिणाम में एक बार फिर से एनडीए ने बाजी मार ली है। एनडीए के खाते में जहां 125 सीटें आई है वहीं महागठबंधन के खाते में 110 सीट आई है। बिहार में सत्ताधारी एनडीए में शामिल भाजपा ने इस बार नीतीश कुमार से बड़े भाई वाली भूमिका छीन ली है। जेडीयू के साथ गठबंधन कर बीजेपी हमेशा छोटे भाई की भूमिका में रही लेकिन इस बार सबकुछ उल्टा हो गया। अब भाजपा ने 74 सीटों पर जीत दर्ज कर जेडीयू से वह अधिकार भी ले लिया है। इस बार जदयू को सिर्फ 43 सीटों पर जीत मिली है. इन सबके बीच नीतीश कैबिनेट के 10 मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा है। इसमें जेडीयू आगे निकल गई है। जेडीयू कोटे के 8 मंत्री जहां चुनाव हार गए वहीं बीजेपी कोटे से बने 2 मंत्रियों को चारो खाने चित्त होना पड़ा।

जेडीयू के 8 मंत्रियों को मिली हार

मंत्री जय कुमार सिंह चुनाव हार गए. वे दिनारा सीट से उम्मीदवार थे. उन्हें आरजेडी के विजय कुमार मंडल ने हराया है. मंडल को कुल 59,541 वोट मिले जबकि दूसरे नंबर पर एलजेपी उम्मीदवार और बीजेपी के बागी राजेंद्र सिंह रहे जिन्हें 51,313 वोट मिले हैं. नीतीश कुमार कैबिनेट के मंत्री जयकुमार सिंह 27,252 वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे.शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा भी जहानाबाद सीट से चुनाव हार गए। आरजेडी के सुदय यादव ने उन्हें हरा दिया. 2015 में कृष्णनंदन वर्मा ने घोसी सीट से चुनाव जीता था लेकिन इस बार उनकी सीट बदल दी गई थी.

परिवहन मंत्री संतोष कुमार निराला राजपुर सुरक्षित सीट से चुनाव हार गए। उन्हें कांग्रेस के विश्वनाथ राम ने करीब 20 हजार वोटों के अंतर से हराया. समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह हथुआ सीट से जेडीयू के उम्मीदवार थे. आरजेडी के राजेश कुमार सिंह ने रामसेवक सिंह को 30 हजार वोटों के अंतर से हराया. आरजेडी को इस सीट पर 86,731 वोट मिले, जबकि रामसेवक सिंह को 56,204 वोट मिले.

ग्रामीण कार्य मंत्री और जेडीयू प्रत्याशी शैलेश कुमार भी जमालपुर विधानसभा सीट से हार गए। कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. अजय कुमार सिंह ने शैलेष कुमार को हराया. अजय कुमार सिंह को 57196 वोट मिले हैं जबकि जेडीयू के शैलेश कुमार को 52764 वोट मिले. अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री रमेश ऋषिदेव भी सिंहेश्वर विधानसभा सीट से चुनाव हार गए, वे जेडीयू प्रत्याशी थे. सिंहेश्वर सीट से आरजेडी प्रत्याशी चंद्रहास चौपाल ने जीत दर्ज की है. चौपाल को 86181 वोट मिले हैं जबकि रमेश ऋषिदेव को 80608 वोटों से संतोष करना पड़ा. लगभग 6 हजार वोटों से ऋषिदेव की हार हुई है.

अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद की हार हो गई है. वे सिकटा विधानसभा सीट से उम्मीदवार थे. खुर्शीद को सीपीआई (माले) के वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता ने पराजित किया है. खुर्शीद जेडीयू के टिकट पर चुनाव लड़े और वोटों की गिनती में तीसरे स्थान पर रहे. खुर्शीद को 35798 मत मिले माले प्रत्याशी वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता को 49075 वोट मिले.

आपदा प्रबंधन मंत्री और बीजेपी कैंडिडेट लक्ष्मेश्वर राय भी लौकहां विधानसभा सीट से हार गए। उन्हें आरजेडी उम्मीदवार भारत भूषण ने करीब 10 हजार मतों से लक्ष्मेश्वर राय को हराया. खनन मंत्री बृज किशोर बिंद भी चैनपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़े थे.

BJP के दो मंत्री हारे

नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा भी मुजफ्फरपुर विधान सभा सीट से चुनाव हार गए। कांग्रेस उम्मीदवार विजेंद्र चौधरी ने शर्मा को छह हजार वोटों के अंतर से हराया. विजेंद्र चौधरी को 81 हजार वोट मिले जबकि सुरेश शर्मा को करीब 75 हजार वोट मिले. खनन मंत्री बृज किशोर बिंद भी चैनपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़े थे. 


Find Us on Facebook

Trending News