हां मैं बेलदौर पुलिस हूं,मास्क नहीं पहनूगां,देखता हूं मेरा चालान कौन काटता है

हां मैं बेलदौर पुलिस हूं,मास्क नहीं पहनूगां,देखता हूं मेरा चालान कौन काटता है

KHAGDIYA : बेलदौर थाना अंतर्गत आदर्श थाना बेलदौर में पदस्थापित एसआई चितरंजन प्रसाद सिंह का एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें साफ-साफ दिखाई दे रहा है कि उक्त एस आई मास्क नहीं पहने हुए हैं। वह खुद मास्क नहीं पहने हुए हैं लेकिन वह बिना मास्क पहने हुए व्यक्ति का चालान काटते हुए जरुर देखा जा रहा है। जानकार का मानेX तो पुलिस वालों का पहुंच बहुत लंबा है इसलिए वरिए पुलिस पदाधिकारी भी इनका कुछ भी नही बिगाड़ सकते है और न ही किसी तरह का कानून कार्यवाही कर सकते हैं।इन्हीं का देखादेखी एसआई महानंद चौधरी एवं आषुतोष कुमार भी बिना मास्क पहने पुलिस वाले को कानून का पाठ पढ़ा रहे हैं।

आप इस वीडियो में देख रहे हैं कि एस आई महानंद चौधरी एवं आषुतोष कुमार बिना मास्क पहने दुसरे को मास्क पहने का पाठ पढ़ा रहे हैं। इन लोगों के अनुसार हां मैं बेलदौर पुलिस हूं मास्क नहीं पहनता हूं। देखता हूं मेरा चालान कौन काटता है। यह बात आपको सुनने में अटपटा जरूर लगता होगा लेकिन मामला बिल्कुल सही और सत्य है। जानकारी के मुताबिक खगड़िया एसपी के निर्देश पर बेलदौर थाना में पदस्थापित एसआई चितरंजन प्रसाद सिंह बेलदौर थाना अध्यक्ष के देखरेख में,बेलदौर थाना के सामने बजरंगबली स्थान के नजदीक शनिवार को वाहन चालकों एवं रास्ते चल रहे राहगीर जो मास्क नहीं पहने हुए थे उनका चालान काट रहे थे।लेकिन चालान काट रहे एसआई चितरंजन प्रसाद सिंह खुद मास्क नहीं पहने हुए थे। लेकिन दूसरे व्यक्ति को मास्क पहनने के लिए जरूर हिदायत देते हुए देखा गया। वही इस बात की जानकारी दर्जनों ग्रामीणों ने मीडिया वाले को दिया तो मीडिया की टीम जब बेलदौर थाना के आगे बजरंगबली स्थान के नजदीक गए तो देखे कि वास्तव में एसआई चितरंजन प्रसाद सिंह बिना मास्क पहने कुर्सी पर बैठकर बेहिचक बिना मास्क पहने हुए व्यक्ति का चालान काट रहे थे। जब उनसे पूछा गया कि आप मास्क क्यों नहीं पहने हैं तो उन्होंने बताया कि मेरे पास मास्क है लेकिन पहनकर नहीं हूं। 

अब सवाल उठता है कि क्या पुलिस प्रशासन भी सिर्फ वरीय पदाधिकारी के डर से अपने पास मास्क रखते हैं। जब कौई वरिए पदाधिकारी जांच के लिए आते हैं तो बेलदौर पुलिस मास्क जरुर पहनलेते हैं उनके जाते ही मास्क खोलकर जेब में रख लेते हैं। क्या ये कोरोना गाईडलाइन का उलंघन नही हुआ? अगर कोरोना गाईडलाइन का उलंघन हुआ तो क्या इनके उपर कुछ कार्रवाई हो सकता है? इनके उपर कार्रवाई कौन और कब करेगें? या पत्रकारों को ही तंग तबाह करने में पुलिस प्रशासन व्यस्त रहेगें? इस तरह के दर्जनों सवाल पैदा हो रहा है।

Find Us on Facebook

Trending News