BJP अध्यक्ष संजय जायसवाल का कविता वार,लिखा- हे कांग्रेस...तेरे खेल निराले-थोड़ी तो खुद पर शर्म करो.....

BJP अध्यक्ष संजय जायसवाल का कविता वार,लिखा- हे कांग्रेस...तेरे खेल निराले-थोड़ी तो खुद पर शर्म करो.....

PATNA: कृषि कानून के विरोध में आज विपक्षी दलों का आज भारत बंद है। विपक्षी दल के नेता सड़कों पर उतर कर केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे और किसान विरोधी बता रहे हैं. इधर बीजेपी भी कांग्रेस पर पलटवार कर रही है। बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने कविता के माध्यम से कांग्रेस समेत विपक्षी नेताओं पर हमला बोला है।

बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कविता के माध्यम से हमला बोला है। अध्यक्ष ने फेसबुक के माध्यम से कहा है कि कांग्रेस का खेल निराला है।

संजय जायसवाल का कांग्रेस पर कविता वार

'हे कांग्रेस 
तेरे खेल निराले 
पिस रहे हैं भोले-भाले 
थोड़ी तो खुद पर शर्म करो 
देश पर थोड़ा रहम करो! 
क्या पाओगे झूठ बोलकर?
सच्चाई का गला घोंटकर, 
गांधीजी को याद करो 
ना देश को यूं बर्बाद करो!
सोचो, तो जरा किसानों की 
गरीबों के परिवारों की 
मत बनो बाधक विकास में, 
समृद्धि के प्रकाश में! 
तुम्हारी राजनीति खा रही किसानी 
आंदोलन में तुम्हारे, 
घुस चुके हैं खालिस्तानी 
याद कर इतिहास को, 
थोड़ा तो कदम संभाल लो 
अंदर जमे कूड़े को, 
थोड़ा तो बाहर निकाल लो!
जितना यह देश हमारा है, 
उतना ही वतन तुम्हारा है 
जिम्मेवारी का कुछ तो भान करो, 
जन-गण का तो थोड़ा सम्मान करो!
बापू की थी यह कामना
पहचान ली थी तुम्हारी भावना  
चाहते थे कांग्रेस भंग हो 
नेता जनता के संग हो 
पर तुमने उन्हें भी छोड़ दिया, 
सच्चाई से मुंह मोड़ लिया!
जनता खेल गयी है जान
ध्वस्त हो चुका तुम्हारा मान।
बढ़ रहे तुम्हारे कदम,
खुद के विनाश पर
अंत पर, सर्वनाश पर!'

संजय जायसवाल ने आगे लिखा है कि कल शाम सोशल मीडिया व आइटी सेल के प्रदेश संयोजक मनन कृष्ण ने मुझे अपनी लिखी यह कविता सुनायी। वर्तमान समय में यह कविता इतनी सामयिक और सुंदर बन पड़ी है कि इसे आप सभी के साथ साझा करने का लोभ संवरण न कर सका। आज जब किसानों के नाम पर कांग्रेस कई तरह की धांधली कर रही है, तो इस कविता में मनन जी ने सब कुछ कह दिया है। 

Find Us on Facebook

Trending News