छपरा में 3 सालों से डबल डेकर का निर्माण करा रहा है पुल निर्माण निगम, नगर निगम ने जताई नाराजगी

छपरा में 3 सालों से डबल डेकर का निर्माण करा रहा है पुल निर्माण निगम, नगर निगम ने जताई नाराजगी

CHHAPRA : छपरा नगर निगम शहरवासियों के नाराजगी के आगे झुक गया और अब आम लोगों के साथ सुर मिलाते हुए पुल निर्माण निगम के अधिकारियों को चेतावनी दे डाली है। चेतावनी के तहत पुल निर्माण निगम के अधिकारियों से कहा गया है कि वार्ड नंबर 36, 38 और 39 के लोगों को मुख्य सड़क पर जमे जलजमाव से मुक्ति दिलाई जाए। उसके बाद ही डबल डेकर का निर्माण कराया जाए। अन्यथा काम बंद किया जाए। नगर निगम के कड़े रुख को देखते हुए पुल निर्माण निगम के अधिकारियों ने जलजमाव स्थल का निरीक्षण किया और दिए गए आदेश के अनुरूप कार्य करने की बात कही।

क्या है पूरा मामला

दरअसल पिछले 3 साल से राज्य पुल निर्माण निगम छपरा शहर में डबल डेकर पुल का निर्माण कर रहा है। लेकिन निगम की कार्यशैली इतनी धीमी है कि लोग परेशान हैं। लोगों की परेशानी का सबसे बड़ा कारण निगम द्वारा जहां-तहां पुल के लिए पाया खड़ी करने के क्रम में गड्ढा खोद दिया जाना और सड़क को तहस-नहस कर दिया जाना है। इतना ही नहीं सड़क के दोनों तरफ के नालों को भी ध्वस्त कर दिया गया है। ऐसे में नालों का पानी पूरी तरह से रोड पर 3 साल से जमा हुआ है। बारिश में यह तालाब का रूप ले लिया था। इन सबके बावजूद पुल निर्माण निगम ने आम लोगों की परेशानियों को हल्के में लिया। अब लोगों ने नगर निगम और उनके वार्ड आयुक्त के खिलाफ भड़ास निकालनी शुरू कर दी है। नजदीक में चुनाव है। ऐसे में वार्ड पार्षदों की बेचैनी और बढ़ गई है। उन्होंने नगर निगम बोर्ड और निगमायुक्त पर दबाव बनाते हुए जलजमाव से मुक्ति दिलाने की मांग की है।  इनमें वर्तमान वार्ड आयुक्त तो है ही पूर्व वार्ड आयुक्त भी शामिल है। जनप्रतिनिधियों के गुस्से पर नगर निगम के अधिकारियों ने भी पुल निर्माण निगम के अधिकारियों को लगे हाथ चेतावनी दे दी।

बुलाई गई आपात बैठक, अफसरों की लगी क्लास

महापौर सुनीता देवी और अधिकारियों ने पुल निर्माण निगम के कार्यपालक अभियंता समेत तमाम इंजीनियरों की एक आपात बैठक बुलाई और आम लोगों की नाराजगी से अवगत कराया। महापौर ने दो टूक कहा कि जब तक आप आम लोगों को जलजमाव से निजात नहीं दिलाते हैं। तब तक आप डबल डेकर निर्माण कार्य बंद करें। समस्या के समाधान के लिए पुल निर्माण निगम के अधिकारियों को सुझाव दिया गया कि अविलंब सड़क के दोनों तरफ के नालों का निर्माण कर दें। जो पुलिया ध्वस्त हुई है। उसे भी बना दें और सड़क पर के पानी को बाहर निकलवा दें। महापौर ने कहा कि बार-बार नगर निगम द्वारा सफाई कराई जा रही है और पुल निर्माण निगम के अधिकारियों द्वारा जलजमाव करा दी जा रही है।

अधिकारियों ने जलजमाव स्थल का किया निरीक्षण

नगर निगम के अधिकारियों ने महापौर के साथ पुल निर्माण निगम के अधिकारियों को साथ ले लिया और जलजमाव स्थल का मुआयना करने निकल पड़े। शाम तक दोनों पक्षों की ओर से अपनी अपनी बातें रखी जा रही थी। हालांकि जो बातें छन कर सामने आई, उसके अनुसार राज्य पुल निर्माण निगम जलजमाव से निजात के लिए नाला और पुलिया का निर्माण कराएगा।

क्या कहती है महापौर

छपरा नगर निगम की महापौर सुनीता देवी ने कहा की राज्य पुल निर्माण निगम काफी धीमी गति से काम कर रहा है। नतीजतन 3 साल से शहरवासियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। जलजमाव के कारण कई लोगों के पैर सड गए हैं। लोगों का घर से निकलना बंद हो गया है। 200 दुकानों पर ताला लग गया है। ऐसे में पुल निर्माण निगम पहले जलजमाव से मुक्ति दिलाए फिर अपना काम शुरू करें।

क्या कहते हैं उप नगर आयुक्त

राज्य पुल निर्माण निगम को जलजमाव से मुक्ति दिलाने के लिए नाला निर्माण करवाने और धंसे हुए पुलिया की मरम्मत  कराने को कहा गया है ताकि आम लोगों को राहत मिल सके।

छपरा से संजय भारद्वाज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News