CBI की कस्टडी से 45 करोड़ का सोना गायब, पुलिस जांच पर कोर्ट में दी दलील – हमारी प्रतिष्ठा होगी धूमिल

CBI की कस्टडी से 45 करोड़ का सोना गायब, पुलिस जांच पर कोर्ट में दी दलील – हमारी प्रतिष्ठा होगी धूमिल

चेन्नई। देश के सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई की कस्टडी से 103 सोना के गायब होने का मामला सामने आया है। लगभग 45 करोड़ मूल्य के इस सोने को सीबीआई ने चेन्नई में छापेमारी के दौरान जब्त किया था। अब गायब हुए सोने की खोज के लिए हाईकोर्ट ने क्राइम ब्रांच और सीआईडी पुलिस को जिम्मेदारी सौंपी है।

अपनी कस्टडी से गायब हुए सोने को लेकर पुलिस से जांच कराने पर सीबीआई ने कोर्ट में दलील दी है कि हम देश की सबसे बड़ी संस्था है। हमारे खिलाफ किसी छोटी संस्था से जांच करवाने पर प्रतिष्ठा धूमिल होगी। वहीं मद्रास हाई कोर्ट के जज पीएन प्रकाश ने जांच के निर्देश देते हुए  कहा कि सभी पुलिस कर्मियों पर भरोसा किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह केस सीबीआई के लिए 'अग्नि परीक्षा' हो सकता है. कोर्ट ने निर्देश दिया है कि पूरे मामले की जांच एसपी रैंक के किसी अधिकारी से कराई जाए और छह माह में पूरी रिपोर्ट प्रस्तुत करें।

2012 में किया गया था जब्त


जानकारी के अनुसार 2012 में सीबीआई ने सुराना कॉर्पोरेशन लिमिटेड के कार्यालयों में छापे मारकर 400.47 किलोग्राम सोना जब्त किया था. उस समय यह सोना सुराना के ही लॉकर और वॉल्ट्स में सीबीआई की सेफ कस्टडी में रख दिया गया था. हाल ही में जब लॉक खोला गया तो पाया गया कि इसमें से 103.864 किलोग्राम सोना गायब मिला। गायब सोने की कीमत 45 करोड़ के आसपास बताई गई है।

Find Us on Facebook

Trending News