RWD के भ्रष्ट कार्यपालक अभियंता के खिलाफ 6 साल बाद चार्जशीट दाखिल, अकूत संपत्ति अर्जित करने में निगरानी ने दर्ज किया था केस

RWD के भ्रष्ट कार्यपालक अभियंता के खिलाफ 6 साल बाद चार्जशीट दाखिल, अकूत संपत्ति अर्जित करने में निगरानी ने दर्ज किया था केस

PATNA: बिहार में भ्रष्ट इंजीनियरों के खिलाफ निगरानी की कार्रवाई लगातार जारी है। हालांकि कोर्ट में आरोप पत्र समर्पित करने में कहीं न कहीं देरी हो रही,जिसका लाभ भ्रष्ट अधिकारी-इंजीनियर उठाते रहे हैं. अब छह साल बाद ग्रामीण कार्य विभाग के एक भ्रष्ट कार्यपालक अभियंता के खिलाफ निगरानी ब्यूरो ने कोर्ट में आरोप पत्र समर्पित किया है। लंबे समय से इस इंजीनियर के खिलाफ अभियोजन की स्वीकृति की फाइल पेंडिंग था. स्वीकृति मिलने के बाद निगरानी ब्यूरो ने चार्जशीट दाखिल कर दिया है।  

आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने में ग्रामीण कार्य विभाग के तत्कालीन कार्यपालक अभियंता ओमप्रकाश मांझी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया है . आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोप में निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने 19 दिसंबर 2016 को केस दर्ज किया था. तब यह मुजफ्फरपुर में कार्यपालक अभियंता के पद पर पदस्थापित थे. इनका प्रॉसक्यूशन विभाग में लंबित था. विभाग से अनुमति मिलने के बाद निगरानी ब्यूरो ने सोमवार को ही कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है. निगरानी के विशेष न्यायाधीश मनीष द्विवेदी की अदालत में पूर्व कार्यपालक अभियंता ओमप्रकाश मांझी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की विभिन्न धाराओं में आरोप पत्र दायर किया गया है. आरोप पत्र में कहा गया है कि इन्होंने 31 अगस्त 1989 से लेकर 31 मार्च 2015 तक पद का भ्रष्ट दुरुपयोग कर अवैध संपत्ति बनाई है. निगरानी ब्यूरो ने इनके खिलाफ 145/16, 19 दिसंबर 2016 को पीसी एक्ट के तहत केस दर्ज किया था.

Find Us on Facebook

Trending News