बिहार में जहरीली शराबकांड की NHRC 'जांच' को चिराग ने बताया संवैधानिक, कहा- 'सैकड़ों लोगों की कराई गई हत्या'

बिहार में जहरीली शराबकांड की NHRC 'जांच' को चिराग ने बताया संवैधानिक, कहा- 'सैकड़ों लोगों की कराई गई हत्या'

पटना. लोजपा (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह सांसद चिराग पासवान ने मानवाधिकार आयोग की टीम का बिहार आना और सारण, सिवान और बेगूसराय में जहरीली शराब काण्ड की जांच करने को न्यायसंगत और सवैधानिक बताया है। उन्होंने कहा कि मैं स्वयं घटनास्थल पर गया था। सारण जिला के मशरक में जहरीली शराब पिलाकर सैकड़ों लोगों की हत्या कराई गई, उससे सम्पूर्ण मानवता शर्मसार हुई है। जहरीली शराब थाना में जप्त स्प्रिट गायब कर बनाई गई थी। 

उन्होंने कहा कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। फिर भी सरकारी संरक्षण में शराब माफिया शराब का धंधा कर रहे हैं। घर-घर शराब की होम डिलीवरी हो रही है। पूरा बिहार जानता है। सारण में तो हद हो गयी कि जहरीली शराब से मरने वाले लोगों को प्रशासन ने भय और दबाव डालकर बिना पोस्टमार्टम कराये दाहसंस्कार करा दिया, ऐसा घटना पर पर्दा डालने के लिए किया गया।

चिराग ने बताया कि सैकड़ों लोगों की हत्या शराब पिलाकर की गई है। इन सबों के हजारों परिवार के सदस्यों के सामने जीवन-यापन की समस्या उत्पन्न हो गई है। सभी अति गरीब परिवार के हैं। मानवता की हत्या हुई है। राज्य सरकार मृतकों की संख्या छिपा रही है। ऐसी स्थिति में मानवाधिकार आयोग जो सवैधानिक संस्था है, उसे पूरा अधिकार प्रदत्त है कि ऐसे मामलों पर संज्ञान लें और कारवाई करें।

जहरीली शराब काण्ड सरकार के संरक्षण में चल रहा है। शराब का धंधा का सत्य उजागर होने के भय से जनता दल (यूनाइटेड) सहित सरकार समर्पित कुछ दल मानवाधिकार आयोग का विरोध कर रहे हैं। यह राज्य और जनता के हितों के विरुद्ध है।

Find Us on Facebook

Trending News