बांका में जीविका समूह की सीएम 12 लाख रूपया लेकर हुई फरार, सदस्यों ने किया जमकर हंगामा

बांका में जीविका समूह की सीएम 12 लाख रूपया लेकर हुई फरार, सदस्यों ने किया जमकर हंगामा

BANKA : जिले के कुशमाहा गांव में लगभग एक दर्जन जीविका स्वयं सहायता समूह का लगभग 12 लाख रूपया गबन करने का मामला सामने आया है। आरोप समूह की सीएम पर लगा है। जीविका की कोमल कुमारी कुशमाहा गांव में संचालित लगभग एक दर्जन स्वयं सहायता समूह की सीएम है। जीविका समूह के सीएम के धोखाधड़ी को लेकर लगभग आधा दर्जन समूह की दो दर्जन से अधिक सदस्य ने खेमीचक गांव स्थित प्रखंड जीविका कार्यालय में जमकर हंगामा किया। चुंकि अवकाश होने के कारण कार्यालय बंद था। लेकिन आक्रोशित स्वयं सहायता समूह की सदस्यों ने जीविका के बीपीएम एवं सीएम कोमल कुमारी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जिससे लगभग एक घंटे तक जीविका कार्यालय परिसर में अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। 


दुर्गा जीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष चंदा देवी, पूजा जीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष सविता देवी, काली जीविका समूह की अध्यक्ष मृदुला मिश्रा, राधा जीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष पूनम देवी, बिषहरी जीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष अनोखा देवी ने बताया कि वह वर्ष 2018 के मई माह से स्वयं सहायता समूह संचालित कर रही है। प्रत्येक समूह में 12 सदस्य है। सभी सदस्य ने समूह के संचालन के लिए साप्ताहिक दस-दस रूपया जमा की। तब वर्ष 2019 में यूको बैंक पवई शाखा से सभी समूह को एक लाख 20 हजार रूपया करके ऋण स्वीकृत हुआ। ऋण स्वीकृत होने के बाद जीविका की सीएम कोमल कुमारी ने सभी ग्रुप के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष को सब्जबाग दिखाकर ऋण का रूपया निकासी करा ली। जिसमें प्रत्येक स्वयं सहायता समूह के सात-आठ सदस्य को दस-दस हजार रूपया देकर शेष रूपया अपने पास रख ली। 

सभी समूह के सदस्य ने ऋण के रूपया से अपना व्यवसाय कर प्रत्येक माह ऋण में जमा करने के लिए रूपया सीएम कोमल कुमारी को दी। जिसमें बैंक के सूद एवं ब्याज देकर ऋण का पुरा भुगतान सीएम को कर दी। समूह की अध्यक्ष सविता देवी ने बताया कि एक सप्ताह पूर्व उसे युको बैंक पवई से ऋण के भुगतान के लिए 80 हजार आठ रूपया का भुगतान करने का वकालतन नोटिस आया । जिसपर वह अन्य सभी समूह के सदस्य को जानकारी दी । जब सभी समूह के सदस्य यूको बैंक पवई शाखा आकर ऋण के बारे में जानकारी ली तो सीएम कोमल कुमारी द्वारा बैंक में एक भी रूपया जमा नहीं करने की जानकारी मिली । तब सभी समूह के सदस्य ने जब सीएम कोमल कुमारी से धोखाधड़ी करने के बारे में पूछताछ की तो 30 दिसंबर तक सभी समूह के ऋण का भुगतान बैंक में करने की लिखित दी । 

लेकिन इसी बीच वह गांव छोड़कर फरार हो गई । समूह की महिला ने बताया कि  अगर प्रखंड जीविका कार्यालय द्वारा मामले का निष्पादन नहीं किया गया तो वह चरणबद्ध तरीके से आंदोलन करेंगी । साथ सीएम कोमल कुमारी के खिलाफ केस भी दर्ज करायेंगी। प्रखंड जीविका के बीपीएम चंचला  कुमारी ने बताया कि उन्हें इस मामले का स्वयं जांच कर रही है। सीएम कोमल  कुमारी को सभी समूह का लेखा-जोखा देने को कही है। अगर लेखा-जोखा में गड़बड़ी पाई गई तो सीएम कोमल कुमारी के खिलाफ कानूनी कारवाई की जायेगी।

बांका से चन्द्रशेखर कुमार भगत की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News