कांग्रेस नेता का बड़ा दावा, पार्टी के 17 विधायक भागने की फिराक में, गोहिल को बिहार से खदेड़ कर भगाएंगे

कांग्रेस नेता का बड़ा दावा, पार्टी के 17 विधायक भागने की फिराक में, गोहिल को बिहार से खदेड़ कर भगाएंगे

पटना...  बिहार कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल के बयान के बाद पार्टी के भीतर अब सियासी भूचाल आ गया है। पार्टी के आलाकमान से हल्की जिम्मेदारी देने वाले बयान के बाद अब शक्ति सिंह गोयल पर कांग्रेस के पूर्व विधायक भरत प्रसाद सिंह ने गंभीर आरोप लगाया है। पूर्व विधायक भरत प्रसाद सिंह ने शक्ति सिंह गोहिल पर बड़ा बयान देते हुए कहा कि बिहार में कांग्रेस टूटने की कगार पर खड़ा है। आलाकमान से पार्टी को बचाने की अपील करते हुए कहा कि पैसा देकर टिकट खरीदने वाले एमएलए पार्टी छोड़ने को तैयार हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी के वर्कर इतने गुस्से में हैं कि अगर शक्ति सिंह गोहिल आएंगे तो उनको यहां से खदेड़ कर भगा देंगे। 

कांग्रेस के सभी विधायक टूटने के लिए तैयार हैं। वही शक्ति सिंह गोहिल के ट्वीट पर कहा कि कांग्रेस के त्रिदेव में शक्ति सिंह गोहिल, अखिलेश प्रसाद सिंह और मदन मोहन झा तीनों को अविलंब पार्टी से डिसमिस किया जाए। कांग्रेस के पूर्व विधायक भरत प्रसाद सिंह के आरोपों के बाद अब एक बार फिर कांग्रेस की कलह खुलकर सामने आ गई है।

गौरतलब है कि सोमवार को बिहार कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पद छोड़ने की इच्छा जाहिर की थी। उन्होंने पार्टी नेतृत्व से उन्हें इस दायित्व से मुक्त करने और कोई ‘हल्की जिम्मेदारी’ देने का आग्रह किया है। राज्यसभा सांसद शक्ति सिंह गोहिल ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘निजी कारणों से मैंने कांग्रेस आलाकमान से गुजारिश की है कि मुझे कोई हल्की जिम्मेदारी दी जाए और बिहार के प्रभार से मुक्त किया जाए। गुजरात से ताल्लुक रखने वाले गोहिल पिछले ढाई वर्षों से ज्यादा समय से बिहार के कांग्रेस प्रभारी के रूप में काम कर रहे हैं। कांग्रेस नेतृत्व ने अप्रैल 2018 में शक्ति सिंह गोहिल को बिहार प्रभारी पद की कमान सौंपी थी। पार्टी को उम्मीद थी कि गोहिल बिहार कांग्रेस में बड़े बदलाव कर जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत बनाएंगे, लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।  

बता दें कि हालिया संपन्न हुए बिहार विधानसभा चुनाव में आरजेडी और वाम दलों के साथ गठबंधन में कांग्रेस ने 70 सीटों पर चुनाव लड़ा था। हालांकि पार्टी महज 19 सीटों पर ही जीत हासिल कर सकी थी, जो उसके पिछले बार के आंकड़े से भी आठ सीटें कम है। कांग्रेस को इस खराब प्रदर्शन के लिए काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी। इसके बाद से लगातार पार्टी में अंदरखाने हार की समीक्षा और इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की चर्चा चल रही थी।

वहीं, इस पूरे मामले को लेकर BJP नेता निखिल आनंद ने इसी बहाने कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि बिहार को संभालना सबके बस की बात नहीं, यह बात साबित हो गई अब ये लोग ट्विटर और सोशल मीडिया के माध्यम से ही जिम्मेवारी लेंगे और देंगे। निखिल ने कहा कि कांग्रेस का 135 साल का इतिहास खत्म हो गया है। दूसरी तरफ JDU नेता संजय सिंह ने भी शक्ति सिंह गोहिल के बहाने कांग्रेस के साथ-साथ महागठबंधन पर हमला बोलते हुए कहा कि ये लोग हताशा और निरशा में हैं। महागठबंधन के नेता तेजस्वी हो या शक्ति सिंह गोहिल अब इन लोगों की राजनीति सोशल मीडिया तक सीमित हो चुकी है।

Find Us on Facebook

Trending News