शराबबंदी पर कांग्रेस में सिर फुटौव्वल: CLP लीडर अजित शर्मा ने शराब चालू करने की उठायी मांग तो सदानंद सिंह बोले-कोई अपने आप को दल से ऊपर न समझें

शराबबंदी पर कांग्रेस में सिर फुटौव्वल: CLP लीडर अजित शर्मा ने शराब चालू करने की उठायी मांग तो सदानंद सिंह बोले-कोई अपने आप को दल से ऊपर न समझें

पटना। बिहार में शराब बंदी पर कांग्रेस में सिर फुटोव्वल शुरू हो गया है। एक तरफ जहां कांग्रेस विधायक दल के नेता बिहार में फिर से शराब बिक्री शुरू करने की वकालत की है। वहीं बिहार कांग्रेस के वरिष्ठत्तम नेता व विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष श्री सदानंद सिंह इसके विरोध में उतर आए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शराबबंदी की पक्षधर है। हमारी पार्टी महात्मा गाँधी के सिध्दांतों पर चलती है। जो मद्यपान का विरोध करती है।

व्यक्तिगत राय, कांग्रेस में विचाराधारा ऐसी नहीं

श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस की सदस्यता लेने में मद्यपान नहीं करने का शपथ भी लेना पडता है। यदि कोई कांग्रेसी नेता शराबबंदी का विरोध करते हैं तो यह उनकी व्यक्तिगत राय हो सकती है, किन्तु पार्टी की नहीं। कोई नेता पार्टी से बडा नहीं हो सकता है। कांग्रेस के सभी नेताओं को अपने विचार  पार्टी की नीतियों का सम्मान करते हुये ही रखना चाहिये। बता दें कि कुछ दिन पहले सीएम नीतीश कुमार ने भी कांग्रेस में सदस्यता के दौरान शराब सेवन नहीं करने की शपथ की बात कही थी।

श्री सिंह ने कहा कि बिहार में  शराबबंदी हमारी महागठबंधन सरकार की देन है। तब के मद्यनिषेध मंत्री भी कांग्रेस से ही थे। हमारे समाज पर शराबबंदी का सकारात्मक प्रभाव पडा है। अत: इसे लागू रहना चाहिये। उन्होंने कहा वह कभी भी शराब की बिक्री का समर्थन नहीं कर सकती है। 

विधायक अजीत शर्मा ने की थी मांग

बता दें कि बुधवार को कांग्रेस के विधायक दल नेता अजीत शर्मा ने विधानसभा में मांग की थी कि बिहार में लोगों ने दर पर शराब की खरीदी कर रहे हैं वही बिहार के धन दूसरे राज्यों में जा रहा है इस दौरान उन्होंने मांग की कि बिहार में 3 गुना शराब की कीमत बढ़ाकर बिक्री की जाए ताकि बिहार का धन बिहार में ही रहे। अब अजीत शर्मा के बयानो से उनकी ही पार्टी ने किनारा कर लिया है। 

Find Us on Facebook

Trending News