धोनी की पत्नी की शिकायत होगी दूर : बिजली संकट दूर करने के लिए बिजली खरीदेगी झारखंड सरकार, इतनी राशि को दी मंजूरी

धोनी की पत्नी की शिकायत होगी दूर : बिजली संकट दूर करने के लिए बिजली खरीदेगी झारखंड सरकार, इतनी राशि को दी मंजूरी

RANCHI : एक दिन पहले  झारखंड सरकार उस समय चर्चा में आ गई, जब स्टार क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी ने पावर कट को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा कि इतने टैक्स पेमेंट करने के बाद भी हमें रात में अंधेरे में गुजारना पड़ रहा है। अब झारखंड सरकार ने फैसला लिया है कि बिजली संकट के ऐसे सभी शिकायतों को दूर किया जाएगा। इसके लिए झारखंड कि हेमंत सोरेन ने फैसला लिया है कि वह बाहर से बिजली खरीदेगी। इसके लिए झारखंड बिजली वितरण निगम को सब्सिडी के रूप में राज्य सरकार द्वारा 1690 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी गयी है। 

इधर जेबीवीएनएल के अधिकारियों ने बताया कि लोडशेडिंग को रिशिड्यूल किया गया है. इसमें प्रयास होगा कि रात 12 बजे से सुबह के छह बजे के बीच लोडशेडिंग न की जाये. इससे संबंधित निर्देश सभी जीएम को दिया गया है।


डिमांड के अनुरूप बिजली उपलब्ध हो, यह प्रयास किया जा रहा है : सीएम

सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि मौजूदा गर्मी कहर बरपा रही है. इससे बिजली की मांग अचानक बढ़ी है. बिजली की समस्या देश के अन्य राज्यों में भी है. बिजली की उपलब्धता में पूरे देश में कमी आयी है. बाजार से भी खरीदना चाहते हैं, तो बिजली उपलब्ध नहीं है. कई बार दर काफी अधिक हो जाती है। फिर भी डिमांड के अनुरूप बिजली उपलब्ध हो, यह प्रयास विभाग के स्तर से किया जा रहा है।

डीवीसी से अतिरिक्त 50 मेगावाट बिजली लेगा

डीवीसी अपने कमांड एरिया में 600 मेगावाट बिजली की आपूर्ति करता है. कमांड एरिया से बाहर के लिए डीवीसी से अतिरिक्त 50 मेगावाट बिजली जेबीवीएनएल खरीदेगा. ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार ने बताया कि यह बिजली मंगलवार की रात से ही खरीदी जायेगी. सरकार ने राशि स्वीकृत कर दी है. अतिरिक्त बिजली भी खरीदने की व्यवस्था हो रही है. उन्होंने कहा कि पूरे देश में बिजली की भारी कमी है.

केंद्रीय मंत्री बोले : झारखंड सरकार खरीद नहीं रही बिजली

जहां एक तरफ झारखंड सरकार का आरोप है केंद्र से आवंटित बिजली भी उपलब्ध नहीं करायी जा रही है। वहीं दूसरी केंद्रीय राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने मंगलवार को लोहरदगा में कहा कि झारखंड सरकार केंद्र के ऊपर दोषारोपण कर जनता को सुविधा मुहैया नहीं कराना चाहती. इसका उदाहरण बिजली की लचर व्यवस्था है़। झारखंड में आज सुबह से बिजली आ और जा रही है. इसके लिए झारखंड सरकार जिम्मेवार है. आज हम बिजली उत्पादन में कमजोर नहीं हैं, झारखंड सरकार बिजली खरीदकर नहीं देना चाहती है. जिसके कारण यहां के लोगों को समस्या से जूझना पड़ रहा है।

साक्षी धोनी के ट्विट ने दिलाया ध्यान

झारखंड में लंबे समय से बिजली की समस्या बनी हुई है। लेकिन, कल जब साक्षी धोनी ने खुलकर बिजली समस्या को लेकर नाराजगी जाहिर की, सभी का ध्यान इस पर चला गया। आनन फानन में बिजली की समस्या को दूर करने के लिए बाहर से बिजली खरीदने को मंजूरी दी गई।


Find Us on Facebook

Trending News