दिल ही तो हैः बुजुर्गों से ज्यादा युवाओं को घर कर रही दिल की बीमारी, जानें कैसे रखें खुद का ख्याल और जीएं स्वस्थ जीवन

दिल ही तो हैः बुजुर्गों से ज्यादा युवाओं को घर कर रही दिल की बीमारी, जानें कैसे रखें खुद का ख्याल और जीएं स्वस्थ जीवन

N4N DESK: 29 सितंबर को हर साल पूरे विश्व में ‘विश्व हृदय दिवस’ मनाया जाता है। हृदय मनुष्य के शरीर का एक अहम भाग माना जाता है। अगर कुछ पल के लिए भी हृदय की धड़कनें रूक जाएं तो इंसान की मृत्यु हो सकती है। ऐसे में हमें अपने हृदय का बेहद ही ख्याल रखना चाहिए। आज के समय में लगातार नई-नई प्रकार की बीमारियां आ रही हैं, जिसका बुरा असर मनुष्य के शरीर के विभिन्न अंगों पर पड़ता है। अक्सर देखा गया है कि इन सभी बीमारियों से संक्रमित होने वाला पहला व्यक्ति वह होता है जिसके खानपान का तरीका सही नहीं होता है। यही नही सभी डॉक्टर्स का भी एक ही सुझाव होता है कि हर रोज़ एक व्यक्ति को कम से कम 30 मिनट का एक्सरसाइज करना ही चाहिए।

क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड हार्ट डे?

वर्तमान में लोगों की असमय मृत्यु हो जा रही है जिसका आमतौर पर मुख्य कारण हार्ट अटैक होता है। पहले की अपेक्षा अब युवा ज्यादातर दिल की बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। ऐसे में लोगों में जागरूकता फैलाने हेतु इस दिन को मनाया जाता है। विश्व हृदय दिवस के जरिए हर साल कई देशों में कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को हृदय के स्वास्थ्य के प्रति जागरुक किया जाता है। विश्व हृदय दिवस के माध्यम से लोगों को हृदय को स्वस्थ रखने के साथ-साथ हृदय रोग के खतरे को कम करने के लिए प्रेरित भी किया जाता है। विश्व में तेजी से बढ़ रहे हृदय मरीजों को देखते हुए WHO ने विश्व हृदय दिवस मनाने को प्रस्ताव रखा था। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने साल 2000 में पहली बार विश्व हृदय दिवस को मनाए जाने की घोषणा की थी, जिसके बाद हर साल इसे सितंबर माह के अंतिम रविवार को मनाया जाने लगा। यही नही साल 2014 में विश्व हृदय दिवस को 29 सितंबर के दिन मनाया जाने लगा।

विश्व हृदय दिवस 2021 का थीम

हर वर्ष विश्व हृदय दिवस का एक थीम निश्चीत किया जाता है। इस साल का थीम है ‘विश्व स्तर पर सीवीडी के बारे में जागरूकता, रोकथाम और प्रबंधन में सुधार के लिए डिजिटल स्वास्थ्य की शक्ति का उपयोग करना’। 

डॉक्टरों द्वारा फिटनेस और तनाव दूर करने का मंत्र

  1. पुराने मित्रों से मिलने का समय निकालें, यादों को ताजा कर खूब खिलखिलाएं। 
  2. सब्जी समेत अन्य कार्य को तीन से पांच किमी की दूरी के लिए साइकिल उपयोग करें।
  3. इमारत पर चढ़ने के लिए लिफ्ट के बजाय सीढ़ियों पर चढ़कर जाएं। 
  4. कार्यस्थल पर खुशनुमा माहौल बनाएं, लगातार कार्य के बीच कुछ मिनट टहलें।
  5. 30 मिनट तक रोजाना तेज गति से चलें। क्षमता के आधार पर रस्सी कूदें।
  6. पार्क न जा सकें तो छत पर ही योग करें। ध्यान लगाएं।
  7. फल, सलाद, हरी सब्जी समेत पौष्टिक भोजन लें। 
  8. फास्ट फूड, धूम्रपान से बचें। रात में जल्दी सोने की आदत डालें।
  9. मोबाइल, लैपटोप, कंप्यूटर और टीवी पर ज्यादा समय न बिताएं।
  10. रोजाना व्ययाम करें। इससे दिन के साथ शरीर स्वस्थ रहेगा।
  11. चीनी और नमक का सेवन सीमित मात्रा में करें।
  12. शराब से दूरी बनाएं रखें।

Find Us on Facebook

Trending News