रूक सकते हैं बिहार में एक्सप्रेस-वे के काम, बिहार के पथ निर्माण मंत्री तेजस्वी यादव के लिए अब बड़ी चुनौती

रूक सकते हैं बिहार में एक्सप्रेस-वे के काम,  बिहार के पथ निर्माण मंत्री तेजस्वी यादव के लिए अब बड़ी चुनौती

PATNA : बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद तेजस्वी यादव को पथ निर्माण विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। लेकिन उनके सामने अब कई चुनौतियां है, जिसके लिए उन्हें पूरी तरह के केंद्र की मदद पर निर्भर रहना होगा। जब बिहार में एनडीए की सरकार थी। तब केंद्र की तरफ से कई एक्सप्रेसवे और मेगापुल प्रोजेक्ट के निर्माण को मंजूरी दी गई थी। लेकिन अब बिहार में सरकार बदलने के बाद माना जा रहा है कि केंद्र कई प्रोजेक्ट पर रोक लगा सकता है। जाहिर है कि तेजस्वी यादव कैसे इन प्रोजेक्ट को बचाने के लिए केंद्र के साथ बेहतर समन्यवय बनाना होगा और जो मौजूदा राजनीतिक स्थिति है उसमें यह संभव नजर नहीं आ रहा है।

जब तक बिहार में एनडीए की सरकार थी, बिहार में 50 हजार करोड़ से ज्यादा के सड़क एक्सप्रेसवे और मेगापुल प्रोजेक्ट के निर्माण को मंजूरी दी गई थी।  इनमें कुछ प्रोजेक्ट 2024 तक तक आकार लेने की संभावना थी लेकिन अब यह तय माना जा रहा है कि यह संभव नहीं हो पाएगा। जिन प्रोजेक्ट को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा हो रही थी, उनमें पटना-आरा-सासाराम एक्सप्रेसवे शामिल है जिसकी कुल लागत ₹3000 करोड़ रुपए है। इसके लिए फिलहाल भूमि अधिग्रहण का काम चल रहा है लेकिन इस प्रोजेक्ट को लेकर अगर राज्य और केंद्र में समन्वय नहीं बना तो इसका आकार लेना संभव नहीं है। इसी तरह जेपी सेतु के समानानंतर एक और फोरलेन पुल का निर्माण होना है, जिसके लिए पूरी तैयारी भी कर ली गई थी, लेकिन अब यह माना जा रहा है की इस प्रोजेक्ट में देरी हो सकती है

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के विस्तार पर ग्रहण

यूपी के गाजीपुर से आ रहे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को भागलपुर तक विस्तार देने के लिए कर पिछले दिनों खूब चर्चा हुई थी लेकिन 35000 करोड़ की इस प्रोजेक्ट की रुकने की संभावना है। 450 किमी लंबे गोरखपुर सिलिगुड़ी लिंक एक्सप्रेस वे में 400 किमी का हिस्सा बिहार से गुजरनेवाला था। लेकिन मौजूदा राजनीतिक हालात में अब इसके रूकने की संभावना है। वहीं 2024 तक पूर्णिया-पटना एक्सप्रेस वे को आकार लेने की बात कही जा रही थी, पर यहां भा मामला फंसता हुआ नजर आ रहा है।

तेजस्वी के ऊपर निर्भर

बिहार में एक्सप्रेसवे की मांग लंबे समय से हो रही है। अब तक एनडीए की डबल इंजन की सरकार में इस पर काम चल रहा था। पूर्व पथ निर्माण मंत्री कई प्रोजेक्ट्स को मंजूरी दिलाने में सफल हुए थे। अब तेजस्वी यादव इन प्रोजेक्ट्स को कैसे केंद्र सरकार की मदद से पूरा कर पाएंगे। यह तेजस्वी के ऊपर निर्भर होगा।

Find Us on Facebook

Trending News