पटना जोन में जी.टी.एस.ई. के सफल छात्रों को गोल इंस्टीट्यूट ने किया सम्मानित, इन छात्रों को मिला ये पुरस्कार

पटना जोन में जी.टी.एस.ई. के सफल छात्रों को गोल इंस्टीट्यूट ने किया सम्मानित, इन छात्रों को मिला ये पुरस्कार

पटना. 7वीं, 8वीं, 9वीं, 10वीं, 11वीं एवं 12वीं क्लास में पढ़ रहे बच्चों लिए गोल इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित गोल टैलेंट सर्च एग्जाम में लगभग 10,000 छात्रों ने भाग लिया. पटना जोन के साइंस क्षेत्र में रूची रखने वाले सफल छात्रों को पुरस्कृत करने के लिए पटना के कालिदास रंगालय में रविवार को सेमीनार का आयोजन किया गया. गोल टैलेंट सर्च एग्जाम में अंतिम रूप से चयनित छात्रों को लैपटॉप के साथ-साथ कई अन्य पुरस्कारों से पुरस्कृत कर छात्रों के मनोबल को बढ़ाया गया. साथ ही परीक्षा में सफल छात्र- छात्राओं को मेडल एवं सर्टिफिकेट से सम्मानित किया गया. सेमीनार में उपस्थित गोल के एक्सपर्ट्स के द्वारा छात्रों को उनके कैरीयर एवं संबंधित प्रतियोगिता के विषय में पर्याप्त जानकारी दी गई.

छात्रों को संबोधित करते हुए गोल इन्स्टीट्यूट के फाउण्डर एवं मैनेजिंग डायरेक्टर विपीन सिंह ने कहा कि हजारों की संख्या में छात्र मेडिकल एवं इंजीनियरिंग एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं में सफलता पाकर इस क्षेत्र का नाम रौशन करें. उन्होंने कहा कि छात्रों के बीच प्रतियोगिता से संबंधित जागरूकता फैलने के उद्देश्य से हमारी टीम ने जी.टी.एस.ई. कि शुरूआत कि और हमें यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि पिछले वर्षों में कई छात्रों ने इसका फायदा लेते हुए देश के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग एवं मेडिकल कॉलेजों में अपना नामांकन पाकर इस प्रोग्राम की सार्थकता सिद्ध किए हैं. उन्होनें कहा कि हमारी संस्थान इंजीनियरिंग एवं मेडिकल की तैयारी कर रहे प्रत्येक छात्र की मदद के लिए प्रतिबद्ध है. साथ ही वैसे छात्र जो दिव्यांग हैं, उन्हें हम तैयारी से संबंधित प्रत्येक सुविधा बिना किसी शुल्क का देंगे.

छात्रों को संबोधित करते हुए गोल इंस्टीट्यूट के असिस्टेंट डायरेक्टर रंजय सिंह ने कहा कि आज के टफ कॅम्पीटीशन को ध्यान में रखते हुए मेडीकल एवं इंजीनियरिंग की तैयारी क्लास 9 से ही शुरू कर देनी चाहिए. उन्होनें कहा कि अगर छात्र अपने सपने को सच करने के लिए दृढ़ संकल्पित हों तो कोई भी लक्ष्य हासिल किया जा सकता है. साथ ही उन्होनें बताया की हमारी संस्थान इंजीनियरिंग एवं मेडिकल की तैयारी कर रहे प्रत्येक छात्र को तैयारी से संबंधित हर सुविधा देने के लिए प्रतिबद्ध है. साथ ही जो छात्र- छात्राएं इस परीक्षा से वंचित रह गये और गोल में स्कॉलरशिप लेने की लालशा रखते हैं, वो गोल के एडमिशन टेस्ट में भाग ले सकते हैं, जो प्रारंभ है.

सेमीनार में बोलते हुए गोल इंस्टीट्यूट के आनंद वत्स ने कहा कि हमारी संस्थान मेडीकल में नं- 1 इन्स्टीच्यूट होने के साथ-साथ इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहे छात्रों को अच्छे रिजल्ट दिलाने के लिए इंजीनियरिंग विंग की शुरूआत की है और हमारी टीम को यह विश्वास है कि आने वाले कुछ वर्षों में हमारा संस्थान इंजीनियरिंग में भी नं- 1 होगा.

पुरस्कृत होने वाले विद्यार्थी

इन्हें मिला लैपटॉप टैब- वर्ग 9वीं के प्रांशु कुमार को लैपटॉप देकर पुरस्कृत किया गया.

इन्हें मिला टैब- निशका आनंद, कौश्तूभ भारद्वाज, सत्यम राज, आयुष राज, समीर कुमार

इन्हें मिला कलाई घड़ी- आदित्या, कुमार शौर्या, अक्षय आनंद, अंकिता सिंह, अंकित राजन, कृतिका नारायण, साहिल केशव, अक्षीत प्रियम, रौनक कुमार

इन्हें मिला बैग- आयुशी कुमारी, श्रेया सिन्हा, श्रृष्टि कुमारी, रूची कुमारी, शुभम राज, समृद्धी, दिव्यांशु कुमार, आर्यन राज, ध्रुव, आदित्य प्रकाश, हर्षित कुमार, अखिल सिंह, सोनल समृद्धि, साक्षी कुमारी, साहिल कुमार, प्रशांत कुमार, अभिषेक कुमार सिंह, स्वीटी कुमारी, अद्या, जान्हवी आनंद, प्रिंस कुमार, खुशी कुमारी, विशाल आनंद, आयुष कुमार, कुशाग्र कृष्णा, ज्ञान प्रकाश, योगेश, पायल रानी, उत्कर्ष राज, आयुष कुमार, अभिनव प्रभात, श्रेया साम्भवी, अवृत्य सिन्हा, अनिश कुमार

Find Us on Facebook

Trending News