गोपालगंज में फिर खुली स्वास्थ्य विभाग की पोल, लोगों ने धक्का देकर स्टार्ट किया एम्बुलेंस

गोपालगंज में फिर खुली स्वास्थ्य विभाग की पोल, लोगों ने धक्का देकर स्टार्ट किया एम्बुलेंस

GOPALGANJ : बिहार सरकार की ओर से राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं के विकास के दावे किये जाते हैं। लेकिन अरबों रूपये खर्च करने के बाद भी आम आदमी की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही है। इसी कड़ी में गोपालगंज में मरीजों को ले जाने के लिए 108 नंबर की एंबुलेंस को धक्का देकर स्टार्ट करने का मामला सामने आया है। मामला बरौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का बताया जा रहा है। मिली जानकारी के मुताबिक 5 मई को बरौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से इलाज के लिए एक गंभीर मरीज को एंबुलेंस के सहारे सदर अस्पताल भेजने की तैयारी चल रही थी। 

लेकिन जैसे ही गंभीर स्थिति में महिला को स्वास्थ्य विभाग के इस 108 एंबुलेंस में चढ़ाया गया, एंबुलेंस ने जवाब दे दिया। मरीज के परिजनों और लोगों के आधे घंटे से अधिक समय बर्बाद करने के बाद एम्बुलेन्स को धक्का देकर स्टार्ट किया गया। उसके बाद मरीज को गोपालगंज सदर अस्पताल लाया गया। इस दौरान वहां मौजूद हर कोई राज्य के स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल उठाने लगा कि अगर एंबुलेंस की ऐसी स्थिति रहेगी तो मरीजों को समय पर इलाज कैसे मुहैया होगा। यह कोई पहली घटना नही है। इसके पहले भी एक मरीज गोपालगंज से गंभीर हालत में पीएमसीएच रेफर हुआ था। लेकिन अमनौर में एम्बुलेन्स खराब होने से मरीज की मौत हो गयी थी। 

इस मामले में सिविल सर्जन डॉ बिरेंद्र कहा कि पूरे जिले में 25 एंबुलेंस संचालित है। बरौली एम्बुलेन्स में खराब हो गयी थी। उसे रिपेयरिंग के लिए गैरेज में भेज दिया गया हैं। वही अमनौर में मरीज के मौत के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहते है कि मरीज सीरियस था। उसकी मौत हो गयी। एंबुलेंस में कोई गड़बड़ी नही थी। बता दें की बीते एक मई को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, मंत्री जनक राम समेत कई विधायक और एमएलसी इस पीएचसी को सीएचसी भवन बनाने के लिए शिलान्यास करने पहुंचे थे।

गोपालगंज से मनान अहमद की रिपोर्ट  

Find Us on Facebook

Trending News