IAS अफसर ने 'सरकार' के आदेश को दिखाया था ठेंगा, आगे भी 'सस्पेंड' रखने का आदेश

IAS अफसर ने 'सरकार' के आदेश को दिखाया था ठेंगा, आगे भी 'सस्पेंड' रखने का आदेश

पटना. बिहार कैडर के एक आईएएस अधिकारी ने सरकार के आदेश को ठेंगा दिखाया। केंद्र सरकार की रिपोर्ट पर बिहार सरकार ने 1 नवंबर 2021 को 2013 बैच के आईएएस ऑफिसर जितेंद्र गुप्ता को निलंबित कर दिया। अब निलंबन समिति ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी का निलंबन आगे भी जारी रखने की सिफारिश की है। इसके बाद सामान्य प्रशासन विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।

दरअसल 2013 बैच के आईएएस ऑफिसर बिहार में पदस्थापन के दौरान विवादों में रहे थे। 5 साल पहले एसडीओ रहने के दौरान ही भभुआ में घूस लेने के आरोप में उनकी गिरफ्तारी भी हुई थी। काफी विवाद के बाद उन्होंने कोर्ट का रास्ता अख्तियार किया। इसके बाद उनका कैडर ट्रांसफर हुआ और उन्हें नागालैंड कैडर दिया गया। बिहार सरकार ने 15 दिसंबर 2020 को नागालैंड ज्वाइन करने के लिए जितेंद्र गुप्ता को विरमित भी कर दिया। इसके बाद भी उन्होंने वहां योगदान नहीं दिया।

भारत सरकार ने अक्टूबर 2021 में जानकारी दी कि उन्होंने अभी तक योगदान नहीं दिया है। ऐसा कर वे सरकार के आदेश की अवहेलना कर रहे। इसके बाद राज्य सरकार ने 1 नवंबर 2021 को निलंबित कर दिया। निलंबन के दौरान आईएएस अफसर को पटना कमिश्नर ऑफिस में अटैच किया गया। 17 दिसंबर को राज्य निलंबन समिति की बैठक में आईएएस अफसर जितेंद्र गुप्ता के निलंबन अवधि को बरकरार रखने की अनुशंसा की गई। इसके बाद सरकार ने आगे भी निलंबित रखने का आदेश जारी कर दिया है।


Find Us on Facebook

Trending News