शेखपुरा में इफ्को की स्वतंत्र डायरेक्टर पूनम शर्मा पहुँची बिस्कोमान वितरण केंद्र, खाद की समस्या को लेकर लोगों से ली जानकारी

शेखपुरा में इफ्को की स्वतंत्र डायरेक्टर पूनम शर्मा पहुँची बिस्कोमान वितरण केंद्र, खाद की समस्या को लेकर लोगों से ली जानकारी

SHEKHPURA : शेखपुरा में लंबे अरसे के बाद सहकारी संस्थान बिस्कोमान में जैसे ही खाद वितरण की सूचना किसानों को मिली की किसानों की भारी भीड़ बिस्कोमान केंद्र पर उमड़ पड़ी और पहले लेने के चक्कर में कई बार आपस में किसान उलझ रहे गए। जिसके कारण बिस्कोमान केंद्र पर अफरा-तफरी की स्थिति उत्पन्न हो रही है। जबकि किसानों ने वितरण कर रहे बिस्कोमान के कर्मियों पर गलत तरीके से अपने परिचित और सगे संबंधी को खाद देने का आरोप लगाया है। जिसके कारण किसानों की भीड़ कम नहीं रही है। 

वही किसानों की भीड़ और मारामारी के बीच इफको फर्टिलाइजर कि स्वतंत्र डायरेक्टर सह भाजपा प्रदेश महामंत्री पूनम शर्मा भी बिस्कोमान वितरण केंद्र बरबीघा पहुंची और किसानों की समस्या जानी। इस मौके पर इफको फर्टिलाइजर के स्वतंत्र डायरेक्टर डॉ पूनम शर्मा खाद की समस्या को लेकर किसानों से अवगत हुई। इफको के स्वतंत्र निर्देशक खाद के परेशानी किसानों से सुन भौचक रह गई और आनन-फानन में केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मंडावीय को फोन कर बिहार में उर्वरक खाद की आपूर्ति की जानकारी ली। जिसके बाद बिहार सरकार पर किसान को उर्वरक खाद के नाम पर परेशान करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार बिहार सहित सभी राज्यों को उसके मांग के अनुरूप यूरिया सहित अन्य खाद उपलब्ध करा रही है लेकिन बिहार सरकार केंद्र पर खाद की आपूर्ति नही करने का झूठा आरोप लगा खाद की कालाबजारी कर किसानों को ऊची कीमत में खाद खरीदने को मजबूर कर रहे है। वहीं उन्होंने कहा कि इस संबंध में स्थानीय डीएम और कृषि पदाधिकारी को भी खाद की कालाबाजारी को रोके जाने का अनुरोध किया है साथ है उपलब्ध खाद को पारदर्शी तरीके से किसानों के बीच वितरण करने की बात कही ताकि किसानों को कालाबाजारी में ऊंची कीमत अदा कर खाद खरीदने पर विवश नहीं होना पड़े। 

साथ ही आम किसानों से भी लाइन में लगकर अपनी बारी आने पर खाद लेने की अपील की ताकि आपाधापी से बचा जा सके। गौरतलब है कि शेखपुरा जिला में जनवरी माह में 2399 मेट्रिक टन खाद के लक्ष्य के अनुरूप अट्ठारह सौ मेट्रिक टन खाद उपलब्ध होने की बात जिला कृषि पदाधिकारी कर रहे हैं। जबकि इस माह में अभी और खाद आपूर्ति होने की बात कर रहे है फिर भी किसानों को सरकारी दर पर कहीं भी खाद नहीं मिल रहा है ।किसान साढ़े तीन सौ से साढ़े 400 रुपया अदा कर ध

खाद खरीद रहे हैं ।ऐसी स्थिति में समझा जा सकता है कि जिला प्रशासन द्वारा खाद् वितरण में कोई दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं जिसका नतीजा है कि दुकानदार आसानी से किसानों को ऊंचे कीमत वसूल रहा है।

शेखपुरा से दीपक की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News