औरंगाबाद में लोगों ने धूमधाम से कराई मेंढक मेंढकी की शादी, विदाई के दौरान झमाझम बारिश से ख़ुशी से झूमे ग्रामीण

औरंगाबाद में लोगों ने धूमधाम से कराई मेंढक मेंढकी की शादी, विदाई के दौरान झमाझम बारिश से ख़ुशी से झूमे ग्रामीण

AURANGABAD : ऐसे तो लग्न का समय बीत गया है। लेकिन औरंगाबाद जिले के हसपुरा प्रखंड के अहियापुर एवं अल्पा गांव में सोमवार एवं मंगलवार की रात मांगलिक गीत गूंज रहे थे। महिलाएं शादी के गीत गा रही थीं। उत्साह तो देखते बन रहा था। गाजे- बाजे के साथ बारात पहुंची तो महिलाओं ने गीत गाकर स्वागत किया। यह वर्षा के लिए मेंढक-मेंढकी की शादी थी।


मेंढ़क की शादी कराने से वर्षा की मान्‍यता

दरअसल वर्षा न होने से परेशान हसपुरा प्रखंड के अहियापुर एवं अल्पा गांव के ग्रामीणों ने मेंढ़क की शादी बड़ी धूमधाम से की है। सोमवार को अल्पा एवं मंगलवार को अहियापुर गांव में शादी कराई गई। गांवों में ऐसी परंपरा रही है कि अगर वर्षा नहीं हो रही है तो मेंढ़क की शादी कराने से होने लगती है। मंगलवार की रात कुछ ऐसा ही हुआ। संयोग यह रहा कि जिस समय मेंढ़क की शादी की रस्म अदायगी हो रही थी। उस समय आसमान में बादलों ने डेरा डाल दिया। जैसे ही मंगल गीत के बीच मेंढ़क की शादी हुई और ग्रामीण विदाई करने लगे। आसमान से झमाझम वर्षा होने लगी। दुल्हा-दुल्हन बनीं मेंढ़क को ग्रामीणों ने सजा रखा था।

वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल 

अल्पा गांव में तुलसी जीविका की सीएम के नेतृत्व में मेंढ़क की शादी कराई गई। अहियापुर गांव के ग्रामीणों ने बारात पहुंचे ग्रामीणों के लिए खाना की व्यवस्था की थी। मेंढ़क की शादी के बाद से वर्षा शुरू हुई है। जिस कारण ग्रामीणों को लग रहा है कि परंपरा के निर्वहन से ऐसा संभव हो सका है। मेंढ़क की शादी का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

मेंढ़क के पिता बने रितेश व भिखर

मेंढ़क की शादी में विवाह की सभी रस्में पूरी की गईं। अहियापुर गांव में नर मेंढ़क के पिता रितेश कुमार एवं मादा मेंढ़क के पिता का रोल भिखर पासवान ने निभाई। मेंढ़क बने दूल्हे का स्वागत अहियापुर गांव में सरिता देवी, सुमन देवी, कौशल्या देवी एवं चंद्रमणि देवी के साथ सैकड़ों की संख्या में महिलाओं ने की। पंडित की भूमिका में ओमप्रकाश पंडित रहे। जिन्होंने मंत्रोच्चारण के बीच शादी कराई। हनुमान मंदिर परिसर में हो रही शादी देखने दूसरे गांव से लोग पहुंचे थे। शादी के बाद सभी के लिए भोजन का प्रबंध किया गया था।

औरंगाबाद से दीनानाथ मौआर की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News