निसंतानों को मिली नई उम्मीद, देशभर में 150 और केंद्र खोलने की इन्दिरा आईवीएफ की योजना

निसंतानों को मिली नई उम्मीद, देशभर में 150 और केंद्र खोलने की इन्दिरा आईवीएफ की योजना

PATNA: किसी भी महिला के लिए मां बनना उसके जीवन का अनमोल अनुभव होता है लेकिन किसी कारणवश मां ना बन पाना उसको निराशा के निम्न धरातल पर ले जाता है। ईएंडवाई की एक रिपोर्ट के अनुसार, माना जा रहा है 2010 से 2020 तक 20-44 साल की महिलाओं में गर्भधारण की समस्या में 14 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो सकती है पर वहीं 30-44 साल की महिलाओं में ये बढ़ोत्तरी 20 प्रतिशत तक जा सकती है।

निःसंतानता की समस्या जिस तेजी से उभरी है उसके ईलाज के लिए उपाय भी हुए हैं पर ये विडंबना ही है कि भारत जैसे विशाल देश में एक प्रतिशत दम्पत्ति ही निःसंतानता का इलाज ले पाते हैं। इसकी एक मुख्य वजह ये भी हैं कि अधिकतर दम्पतियों को उनकी बीमारी के बारे में पता ही नहीं चल पाता है और जानकारी के अभाव में स्थिति और गंभीर हो जाती है।

इन्दिरा आईवीएफ के चेयरमैन डॉ अजय मुर्डिया ने बताया कि छोटे शहरों के निःसंतान मरीजों को अपना इलाज कराने के लिए बड़े शहरों में जाना पड़ता है जिससे उन्हें असुविधा भी होती है और काफी पैसा व कीमती समय भी व्यर्थ हो जाता है। 50,000 सफल आईवीएफ प्रेग्नेंसी होने के उपलक्ष्य में आयोजित भव्य समारोह में डॉ. मुर्डिया ने ग्रुप के विस्तार के बारे में बताते हुए कहा कि आगामी 3 वर्षों में 150 नए आईवीएफ केन्द्र खोलने की योजना है, जिसमें इन्दिरा आईवीएफ ग्रुप लगभग 500 करोड़ का निवेश करेगा। अभी यह ग्रुप 73 आईवीएफ केन्द्रों के ज़रिये पूरे देश में सेवाएँ दे रहा है। अभी इन्दिरा आईवीएफ गु्रप में 200 से भी ज्यादा चिकित्सक, 100 से ज्यादा भूर्ण वैज्ञानिक एवं 2000 से भी ज्यादा प्रशिक्षित स्टाफ कार्यरत है। डाॅ. मुर्डिया ने बताया कि यहां पर प्रसिद्ध विश्वस्तरीय प्रशिक्षण केन्द्र में 250 से भी अधिक देशी एवं विदेशी चिकित्सक ट्रेनिंग प्राप्त कर चुके हैं।

इन्दिरा आईवीएफ पटना के भ्रूण वैज्ञानिक डॉ. दयानिधी शर्मा ने बताया कि आईवीएफ की सफलता दर बहुत कुछ भ्रूण वैज्ञानिक एवं उन्नत लैब पर भी निर्भर करती है। 70-75 प्रतिशत आईवीएफ की सफलता दर आज के दौर में प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इन्दिरा आईवीएफ के सभी केन्द्रों पर यही सफलता दर बनाए रखने की कोशिश की जाती है। 

इन्दिरा आईवीएफ पटना की स्त्री रोग विषेषज्ञ डॉ.अनुजा सिंह ने कहा कि निःसंतान दम्पतियों को इलाज कराने में देरी नहीं करनी चाहिए क्योंकि इलाज में देरी होने से महिलाओं में गर्भधारण की संभावनाएं घटती है। समारोह के अन्त में उन्होंने सभी स्टाफगण को सफलता को लेकर हार्दिक बधाई दी।

Find Us on Facebook

Trending News