बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

LATEST NEWS

शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत करने के बजाय दंडित करना लोकतांत्रिक मर्यादा के खिलाफ,कार्रवाई अविलंब वापस ले सरकार..

शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत करने के बजाय दंडित करना लोकतांत्रिक मर्यादा के खिलाफ,कार्रवाई अविलंब वापस ले सरकार..

PATNA: बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के आह्वान पर 11 जुलाई को प्रशासन की अनुमति से पटना में प्रदर्शन करने आए शिक्षकों पर दंडात्मक कार्रवाई का सिलसिला जारी है। इसके मद्देनज़र बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव और पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री, संसदीय कार्य मंत्री एवं शिक्षा मंत्री से आज अनुरोध किया है कि 11 जुलाई को राज्यकर्मी का दर्जा देने की मांग को लेकर हमारे शिक्षकों ने पटना में लाखों की संख्या में अभूतपूर्व शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया था। विधान मंडल में संसदीय कार्य मंत्री के आश्वासन पर शिक्षक पूर्व की तरह अपने अध्यापन कार्य में लगे हुए हैं। और तदुपरांत किसी भी तरह के धरना-प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए हैं। इसके बावजूद प्रशासन द्वारा शिक्षकों पर निलंबन, वेतन स्थगन, वेतन कटौती आदि दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है।



शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा है कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत करने के बजाय दंडित करना लोकतांत्रिक मर्यादा के अनुरूप नहीं है। सैकड़ों की संख्या में शिक्षकों को निलंबित किया जा चुका है। जिससे छात्र-छत्राओं की पढ़ाई बाधित हो रही है। इसलिए ऐसी कार्रवाइयों में मुख्यमंत्री हस्तक्षेप करें एवं तमाम शिक्षकों पर हुई दंडात्मक कार्रवाइयों को निरस्त करने का यथाशीघ्र आदेश दें। ताकि विद्यालयों में अप्रभावी ढंग से स्वस्थ्य शैक्षणिक वातावरण का निर्माण हो सके। 



तिरहुत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद प्रो. संजय कुमार सिंह ने भी मुख्यमंत्री, संसदीय कार्य मंत्री, एवं शिक्षा मंत्री को शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए पटना में आए शिक्षकों पर हुई दंडात्मक कार्रवाइयों को तत्काल प्रभाव से निरस्त करने की मांग की है। प्रो. संजय कुमार सिंह ने कहा है कि ऐसी कार्रवाइयों से विद्यालयों में  पठन-पाठन का माहौल कमजोर हुआ है।



शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने बिहार के मुख्य सचिव को पत्र लिख कर कहा है कि शिक्षकों से निर्धारित कार्य के घंटों से बहुत अधिक काम लिया जा रहा है। जिससे सामान्य प्रशासन विभाग के आदेश का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने मुख्य सचिव को कहा है कि कार्य के घंटे मानव शरीर की क्षमता पर निर्धारित हैं। किसी को हतोत्साहित और अपमानित कर उसका सर्वोत्तम हासिल नहीं किया जा सकता। शत्रुघ्न प्रसाद सिंह एवं प्रो. संजय कुमार सिंह ने 5 अगस्त को नियोजित शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा देने के विषय पर सकारात्मक बैठक एवं मुख्यमंत्री की ओर से सकारात्मक पहल करने का भरोसा दिये जाने के लिए मुख्यमंत्री को बधाई भी दी है।


Suggested News