कोरोना काल के बाद 'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री' कार्यक्रम फिर होगा शुरू

कोरोना काल के बाद 'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री' कार्यक्रम फिर होगा शुरू

पटना। बिहार में कोरोना महामारी पर सबसे बेहतर काम हुआ है। यहां 97 फीसदी से ज्यादा संक्रमित बीमारी से मुक्ति पा चुके हैं। अब बीमारी के अंतिम स्टेज में जाते देख मुख्यमंत्री फिर से जनता दरबार में हाजिरी लगाने की तैयारी कर रहे हैं। सीएम नीतीश कुमार ने ऐलान किया है कि कोरोना काल के  बाद एक बार फिर वह अपने लोकप्रिय जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम शुरू करेंगे और राज्य की जनता से सीधे सुनवाई करेंगे। वह जल जीवन हरियाली को लेकर हुए बैठक के बाद मीडिया को संबोधित कर रहे थे

बता दें इससे पहले पहले कई बार बिहार के लोगों के साथ सीधे बात करते रहे हैं। जिसका फायदा उन्हें अपनी सरकार चलाने में मिलता रहा है। साथ ही प्रदेश में जनता के साथ किस प्रकार की समस्या है, इसे भी करीब से जानने का मौका मिला है. लेकिन पिछले एक साल से वह जनता के साथ सीधा संवाद नहीं कर पा रहे थे। लेकिन, अब नीतीश कुमार ने साफ कर दिया है कि वह फिर से जनता के बीच दरबार लगाएंगे और उनकी समस्या को लेकर वहीं सुलझाएंगे।

कोरोना को लेकर तैयारी पूरी

कोरोना वैक्सीन को लेकर सीएम ने बिहार में इसके लिए पूरी तैयारी की जा चुकी है। वैक्सीन के स्टोरेज को लेकर व्यवस्था की जा चुकी है। इस दौरान उन्होंने बताया पहली प्राथमिकता 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को दी जाएगी। सीएम ने वैक्सीन को लेकर हो रही राजनीति को लेकर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। 

डिप्टी सीएम भी लगा रहे दरबार

प्रदेश में जनता से सीधे कनेक्टविटी के लिए जनता दरबार सबसे बेहतर माध्यम रहा है। कुछ दिन पहले डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद ने भी अपने आवास पर हर मंगलवार को जनता दरबार लगाने की घोषणा की थी। वहीं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी कुछ दिन पहले अपने आवास पर दरबार लगाते दिखे थे। 

Find Us on Facebook

Trending News