कभी फल की गाड़ी, कभी डीजल के ड्रम का कर रहे इस्तेमाल, शराब तस्करी के नायाब तरीके से पुलिस भी हो रही परेशान

कभी फल की गाड़ी, कभी डीजल के ड्रम का कर रहे इस्तेमाल, शराब तस्करी के नायाब तरीके से पुलिस भी हो रही परेशान

कटिहार। बंगाल और झारखंड सीमा से सटे कटिहार जिला में शराब तस्करी उत्पाद विभाग के लिए चुनौती बना हुआ है, हर दिन तस्करी के कई नायाब तरीके का भंडाफोड़ होने के बावजूद खासकर बंगाल से शराब की खेप की एंट्री से उत्पाद विभाग परेशान हैं,हालांकि कई इलाके से खुले सीमा पर उत्पाद विभाग अब गुप्त सूचना के आधार पर अधिक चौकसी बरतने की बात कर रहे है बिहार-झारखंड और बिहार-बंगाल से जुड़े कटिहार में शराबबंदी का हालात पर एक रिपोर्ट।

कभी फल के गाड़ी में छुपा कर शराब तस्करी का भंडाफोड़, तो कभी गुप्त सूचना के आधार पर शराब के ह्यूमन पार्सल के तस्करी का खुलासा और इससे भी आगे डीजल के ड्रम में छुपा कर शराब की तस्करी,कटिहार उत्पाद विभाग पिछले कई दिनों से शराब तस्करी के नायब तरीका भंडाफोड़ कर उनकी सक्रियता का एहसास करवा दिया है,इसके अलावा जिला पुलिस के एंटी लीकर दास्तां और जिला पुलिस भी लगातार शराबबंदी को बनाए रखने के लिए अपनी सक्रियता दिखा रहे हैं लेकिन बंगाल और झारखंड सीमा से सटे होने के कारण शराब तस्करी पर पूर्ण रोक लगा पाना बड़ी चुनौती बना हुआ है, खासकर बंगाल से सटे इलाकों से हर दिन शराब की तस्करी का खुला खेल के बात लोग लगातार कह रहे हैं लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद उत्पाद विभाग इस दिशा में अब तक सफल नहीं हो पाया है हालांकि कुछ लोग यह भी कहते हैं सिर्फ कानून बन जाने से ही बात नहीं बनेगी बल्कि समाज के हर तबका को इसके लिए आगे आ कर विरोध करना पड़ेगा तभी इस पर पूर्ण प्रतिबंध संभव है।


आनेवाली हर गाड़ियों पर रख रहे हैं नजर

उत्पाद अधीक्षक कहते हैं कि निश्चित तौर पर नए साल के जश्न से पहले शराब तस्कर कुछ अधिक सक्रिय हुए हैं लेकिन लगातार कटिहार उत्पाद विभाग अपने गुप्त सूचना और स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर शराब तस्करी के नायाब तरीके का भंडाफोड़ भी कर रहे हैं। जहां तक बंगाल और झारखंड बॉर्डर से जुड़े हुए विषय है उस पर भी विशेष नजर रखा जा रहा है और आने वाले दिनों में इस इलाके में और अधिक ध्यान दिया जाएगा।

 निश्चित तौर पर शराबबंदी कानून एक अच्छी पहल है मगर इसको लागू करवाने में जो तंत्र है उसको और सजग होने के साथ-साथ आम लोगों को भी इसे सामाजिक मुहिम बनाना पड़ेगा तभी शराबबंदी के सही मायने में सफल हो पाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News