खगड़िया के लोगों की वर्षों पुरानी मांग पूरी, सहरसा तक बनेगी सड़क, 514 करोड़ की आएगी लागत

खगड़िया के लोगों की वर्षों पुरानी मांग पूरी, सहरसा तक बनेगी सड़क, 514 करोड़ की आएगी लागत

KHAGDIA : कोशी क्षेत्र के लोगों के लिए 26 अगस्त का दिन इतिहास के पन्नों में लिखा जाएगा. दरअसल इसी दिन लोगों को यह सूचना मिली की मानसी एनएच 31 से सहरसा जाने वाली सड़क, जो मां कात्यायनी मंदिर के रास्ते फन्गो होल्ड होते हुए हरदी चौघरा तक जाएगी. उसकी प्रशासनिक स्वीकृति पथ निर्माण विभाग ने दे दी है. इससे खास करके कोशी क्षेत्र के मानसी, चौथम और खगड़िया सदर के लोगों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है. इस सड़क के निर्माण से लोगों को कितना फायदा होगा. इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है. खगड़िया के लोगों के लिए सहरसा जाने की दूरी बहुत कम रह जाएगी. लोग अब आसानी से कोशी क्षेत्र से खगड़िया और खगड़िया से कोशी क्षेत्र आवागमन कर सकेंगे. अब दूध की नदियां कोशी क्षेत्र में सरपट दौड़ेगी. मधेपुरा सांसद दिनेश चंद्र यादव के अथक प्रयास का नतीजा है की अब खगड़िया से सहरसा दूध की नदियां सरपट दौड़ेगी. 


बताते चलें की   एक तरफ जिले में मक्के की भारी उपज के कारण इसे पीले सोने का जिला कहा जाता है. वही जिले में कामधेनु के द्वारा बहने वाली दूध की नदियों के कारण जिले को स्वेज नहर के नाम से भी जाना जाता है. जहां से हजारों लीटर दूध, सहरसा, मधेपुरा, सुपौल और कोसी क्षेत्र में रोजाना एकमात्र ट्रेन के माध्यम से ले जाया करती है.  लेकिन इस क्षेत्र में ट्रेनों की संख्या भी कम होने के कारण और बरसात के मौसम में जल स्तर के ऊपर आ जाने के कारण ट्रेन का परिचालन भी रोक दिया जाता है. जिसके बाद मां कात्यायनी की धरती पर बहने वाली दूध की नदियां का बहाव भी रोक दी जाती है. जिससे यहां के लोगों को लाखों रुपए की रोजाना क्षति होती है. बरसात के मौसम में लोगों का आगमन ठप हो जाता है. 

वहीं दूसरी ओर इस क्षेत्र के लोगों को गर्मी के समय में भी जर्जर टेढ़े मेढ़े रास्तों पर रोजाना हिचकोले खाने पड़ते हैं. कई बार लोहे का तत्कालीन पूल बनाकर लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर एक पंचायत से दूसरे पंचायत जाने को विवश थे. कई बार तो जर्जर रेलवे ओवरब्रिज पार्क करने के दौरान कोसी क्षेत्र के लोगों को अपने जान से हाथ भी धोना पड़ा. ना जाने इस कोशी क्षेत्र में नदी में कितने मां के बेटे बिछड़ गए. साथ ही साथ कई महिलाओं ने भी अपने पति को खो दिया. आगे बताते चले कि इस विषय में जब शिक्षक नेता मनीष कुमार सिंह को या बात मालूम हुई तो उन्होंने कहा कि यहां के लोग कई वर्षों से मांग कर रहे थे की सड़क और पुल निर्माण हो. जिसको लेकर आज मधेपुरा सांसद दिनेश चंद्र यादव ने कोशी क्षेत्र के लोगों के लिए भगवान के रुप में सामने आए और ऐसा काम कर दिखाया है कि कोशी दियारा क्षेत्र के लोग उनके मुरीद बन गए है. उन्होंने कहा की मैं बहुत बहुत बधाई देना चाहूंगा कि वर्षों की समस्या को दूर कर दिया है. इसके लोगों में  खुशी का माहौल बना हुआ है, जो अब की जल्द ही इस समस्या से निजात मिल जाएगा. 


पथ निर्माण विभाग द्वारा मिली प्रशासनिक स्वीकृति के बाद अब सड़क जल्दी निर्माण का कार्य प्रारंभ होगा. यह कार्य 514 करोड़ की राशि से होगा. 14.10 किलोमीटर मानसी फंन्गो टू लाइन सड़क का निर्माण मानसी से मां कात्यानी स्थान होते हुए फन्गो होल्ट से सहरसा मधेपुरा कोसी क्षेत्र जाने वाली सड़क का निर्माण जल्द ही पथ निर्माण विभाग द्वारा कराया जाएगा. जिसके लिए 27 अगस्त बुधवार को विभाग द्वारा प्रशासनिक स्वीकृति दे दी गई है. 14.10 किलोमीटर की यह सड़क  513 करोड़ 73 लाख 58 हजार की राशि से निर्माण कराया जाएगा. जिसकी मांग विगत कई वर्षों से लोगों के द्वारा उठाई जा रही थी. जिसके लिए खगड़िया सांसद से भी कई बार जिले के लोगों ने सड़क निर्माण की मांग उठाई थी. जिससे कि इस क्षेत्र के लोगों को सीधे कोसी क्षेत्र से जुड़ने में आसानी हो सके. लेकिन लोगों की समस्या को मधेपुरा सांसद दिनेश चंद्र यादव ने लगातार उठाया. जिसका परिणाम बुधवार को सामने आया. विभाग द्वारा सड़क निर्माण के लिए प्रशासनिक स्वीकृति दे दी गई है. यह सड़क 2 लाइन में निर्माण होगा. जिसमें रेलवे ओवरब्रिज के साथ-साथ जगह - जगह पुल पुलिया का निर्माण भी किया जाएगा. 

खगड़िया से अनिश कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News