कुड़वाचैनपुर के तत्कालीन थाना प्रभारी पर प्राथमिकी दर्ज,एसपी ने दिया थाना प्रभारी सहित आरोपियों के कुर्की जप्ती का आदेश

कुड़वाचैनपुर के तत्कालीन थाना प्रभारी पर प्राथमिकी दर्ज,एसपी ने दिया थाना प्रभारी सहित आरोपियों के कुर्की जप्ती का आदेश

डेस्क... पूर्वी चंपारण जिला के कुड़वाचैनपुर थाना क्षेत्र में नेपाली नाबालिक लड़की के साथ गैंग रेप के बाद के बाद हत्या और जबरन शव को जलाने के मामले में पीड़ित नेपाली परिवार एसपी से मिलकर न्याय की गुहार लगायी ।वही घटना की पूरी जनकारी दिया गया ।तो दूसरी तरफ पटना से चार सदस्यीय एफएसएल की टीम घटना स्थल पर पहुचकर साक्ष्य को इकट्ठा किया गया ।पटना से आयी एफएसएल टीम घटना स्थल की घटना से जांच कर कई साक्ष्य को इकठ्ठा किया गया ।

वही मोतिहारी एसपी नवीन चंद्र झा ने पीड़ित परिवार से मिलने के बाद पत्रकारों से बताया कि घटना बहुत ही जघन्य है ।घटना में शामिल सभी आरोपियों पर सत्य पाते हुए गिरफ्तारी व कुर्की करने का निर्देश दिया गया है ।वही कुड़वाचैनपुर थाना के तत्कालीन  थानेदार संजीव रंजन व आरोपी के शव को जलाने की हुई ऑडियो वाइरल को सत्य पाते हुए थानेदार को अप्राथमिकी अभ्युक्त बनाते हुए गिरफ्तारी व कुर्की का निर्देश दिया गया है ।थानेदार का मोबाइल स्विच ऑफ मिल रहा है।

मोतिहारी जिला के कुड़वाचैनपुर थाना  क्षेत्र में 21 जनवरी को पड़ोसी देश नेपाल के रात्रि प्रहरी के नाबालिक पुत्री के साथ दबंगो द्वारा गैंग रेप की घटना  को अंजाम देने के बाद हत्या कर जबरन शव को जला दिया गया था।वही पीड़ित परिवार को जबरन व धमकी देकर नेपाल भेज  दिया गया था ।पीड़ित परिवार ने घटना के 13 दिन बाद 2 फरवरी को डीएसपी को आवेदन देकर नाबालिक लड़की के साथ गैंग रेप कर हत्या कर शव को जबरन जलाने का आरोप लगाकर आवेदन दिया गया था ।डीएसपी को दिए आवेदन के बाद कुड़वाचैनपुर थाना में प्राथमिकी दर्ज किया गया।

पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज करते हुए दो आरोपितों को गिरफ्तार कर न्यायियिक हिरासत भेज दिया ।प्राथमिकी दर्ज के दो दिनों बाद कुड़वाचैनपुर के तत्कालीन थानेदार संजीव रंजन व आरोपी के बीच शव को ठिकाने लगाने की ऑडियो वाइरल होने के बाद सनसनी फैल गई .एसपी ने ऑडियो वाइरल होते ही थानेदार को निलंबित कर दिया ।वही सिकरहना डीएसपी को वाइरल ऑडियो की जांच का निर्देश दिया गया ।वही आरोपियों के गिरफ्तारी के लिए सिकरहना डीएसपी के नेतृत्व में आठ सदस्यीय एसआईटी टीम का गठन किया गया।टीम गठित होने के पांच दिन बाद भी पुलिस के हाथ अभी खाली है ।इसी बीच आरोपियों के गिरफ्तारी के लिए छापेमारी करने गयी पुलिस पर हमला भी कर दिया गया था ।

Find Us on Facebook

Trending News