लगातार दूसरे दिन सिपाही भर्ती परीक्षा के फर्जीवाड़े में गिरफ्तार हुए 21 अभ्यर्थी, सॉल्वर गैंग का मुख्य आरोपी अब भी फरार

लगातार दूसरे दिन सिपाही भर्ती परीक्षा के फर्जीवाड़े में गिरफ्तार हुए 21 अभ्यर्थी, सॉल्वर गैंग का मुख्य आरोपी अब भी फरार

पटना... बिहार पुलिस की सिपाही भर्ती शारीरिक दक्षता परीक्षा में फर्जीवाड़ा का मामला सामने आया है। गर्दनीबाग के हाईस्कूल प्रांगण में आयोजित शारीरिक दक्षता परीक्षा में कागजात की जांच के दौरान 21 अभ्यर्थियों को फर्जीवाड़ा के आरोप में गिरफ्तार किया गया। हालाकि इसके मास्टरमाइंड अतुल वत्स को अब तक नहीं पकड़ा जा सका है। बीते माह भी बुद्धा कालोनी थाना क्षेत्र से सॉल्वर गैंग के सदस्यों की गिरफ्तारी की गई थी, लेकिन मुख्य सरगना अब तक पुलिस गिरफ्त में नहीं आ सका है। 

ये सभी लिखित परीक्षा में दूसरे को बैठाए थे और परीक्षा पास कर चुके थे लेकिन दक्षता परीक्षा के दौरान कागजात की जांच में न तो इनकी फोटो मिली और न ही बायोमेट्रिक अंगूठे का निशान। इस आरोप में संबंधित अभ्यर्थियों को गर्दनीबाग थाने की पुलिस के हवाले करते हुए केंद्रीय चयन पर्षद की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई। 


पकड़े गए अभ्यर्थियों में मुजफ्फरपुर के अनीश कुमार, भागलपुर के दिलखुश कुमार, नालंदा जिले के धर्मवीर कुमार, भागलपुर के फैसल आलम, छपरा जिले के अभिनव कुमार बैठा, जहानाबाद जिले के नीरज कुमार, भागलपुर के सोनू, सारण के राहुल, रोहतास के सर्वजीत, गया के बिजेंद्र, मुंगेर के सिद्धार्थ, बक्सर के हरेंद्र कुमार, बांका के सुधांशु कुमार, पटना  के सुदामा कुमार, नालंदा के देवकुमार, खगड़िया जिले के सुनील कुमार और वीडियो कुमार खगड़िया शामिल हैं। वहीं मंगलवार को पकड़े गये दो दलाल और 50 फर्जी अभ्यर्थियों को पूछताछ के बाद जेल भेज दिया गया।

गर्दनीबाग थाना प्रभारी अरुण कुमार ने बताया कि अबतक की जांच में पता चला है कि पकड़े गए सभी अभ्यर्थियों ने खुद की जगह सॉल्वरों को बैठाकर सिपाही भर्ती की लिखित परीक्षा पास की। उन्होंने कहा कि केंद्रीय चयन पर्षद के विशेष कार्य पदाधिकारी के निर्देश पर इन सभी आरोपितों के खिलाफ फर्जीवाड़ा और धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।



Find Us on Facebook

Trending News