लॉ एंड आर्डर से कोई समझौता नहीं करेंगे, युवा संवाद में बोले तेजस्वी यादव

लॉ एंड आर्डर से कोई समझौता नहीं करेंगे, युवा संवाद में बोले तेजस्वी यादव

PATNA : बिहार विधानसभा के लिए दो चरण का चुनाव हो चुका है. प्रथम चरण का चुनाव 28 अक्टूबर को कराया गया. जबकि 3 नवम्बर को दुसरे चरण का चुनाव संपन्न हो गया. कल यानि 7 नवम्बर को तीसरे चरण का चुनाव संपन्न होगा. 15 जिलों के 78 विधानसभा सीटों पर चुनाव कराये जायेंगे. जिसके बाद बिहार के सभी 243 सीटों पर प्रत्याशियों की किस्मत इवीएम में बंद हो जाएगी. मतों की गणना 10 नवम्बर को की जाएगी. 

इसी बीच आज नेता प्रतिपक्ष और महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदार तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को अपने तीसरे युवा संवाद कार्यक्रम में फेसबुक के जरिये संबोधित करते हुए कहा कि जिस व्यक्ति का आखिरी चुनाव है, उसे वोट देने का कोई मतलब नहीं है़ उन्हें वोट देने का कोई फायदा नहीं होगा़. अगर नीतीश कुमार को वोट दिया गया तो पांच साल के लिए बिहार फिर बर्बाद हो जायेगा. इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा? उन्होंने कहा कि मैं आश्वस्त करता लॉ एंड आर्डर से कम्प्रमाइज नहीं करेंगे़. किसी को छोड़ेंगे नहीं. युवा संवाद में राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, राज्य सभा सांसद मनोज झा, पूर्व मंत्री श्याम रजक और एमएलसी सुनील सिंह इत्यादि मौजूद रहे़

उधर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा की लालू प्रसाद 1000 करोड़ के चारा घोटाला के चार मामलों में सजायाफ्ता हैं. वे अब मुखिया का भी चुनाव नहीं लड़ सकते. मामले की सुनवाई 27 नवंबर तक टलने के साथ जैसे 9 नवंबर को उनके जमानत पर छूटने के दावे की हवा निकल गई, वैसे ही महागठबंधन के सत्ता में आने और एक झटके में 10 लाख लोगों को सरकारी नौकरी देने के हवा-हवाई दावे भी झूठे साबित होंगे. 

उन्होंने कहा की लालू प्रसाद की जमानत से संबंधित कानूनी प्रक्रिया को राजद ऐसे प्रचारित करता है, जैसे उनके "आजीवन अध्यक्ष" घोटाला के सभी मामलों से बेदाग बरी होकर जेल से छूटने वाले हैं. सुशील कुमार मोदी ने कहा की राजद ने जिस तेजस्वी प्रसाद यादव को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाया, उनका रेलवे के दो होटलों के बदले पटना की कीमती जमीन लिखवाने के मामले में जेल जाना तय है. उन्होंने कहा की तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी होटल के बदले जमीन लेने के घोटाले में अभियुक्त हैं. कोरोना संक्रमण के चलते ट्रायल स्थगित न होता तो अब तक तेजस्वी यादव अपने पिता की तरह जेल में होते. उन्होंने कहा की 2020 का विधानसभा चुनाव बिहार को "आदती घोटालेबाजों" की परिवारवादी राजनीति से मुक्ति दिला सकता है.

Find Us on Facebook

Trending News