23 मई को बंद हो जाएगी सूरमाओं की सियासी दुकान, एनडीए की सुनामी में विपक्ष का सफाया तय: मंगल पांडेय

23 मई को बंद हो जाएगी सूरमाओं की सियासी दुकान, एनडीए की सुनामी में विपक्ष का सफाया तय: मंगल पांडेय

PATNA : लोकसभा चुनाव के नतीजों के पहले विपक्ष की जोड़-तोड़ की राजनीति को बिहार के स्वास्थ्य मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता मंगल पांडेय ने सत्ता की बेचैनी बताया है। उन्होंने कहा कि भले ही विपक्ष ख्याली पुलाव पका रहा हो, लेकिन एनडीए के बहुमत के आगे सभी मोर्चे ध्वस्त हो जाएंगे। एनडीए की सुनामी जहां महामिलावटी गठबंधन का सफाया करेगी, वहीं प्रधानमंत्री बनने का सपना संजोये सियासी सूरमाओं की खुशियां भी काफूर हो जाएंगी। 

 मंगल पांडेय ने कहा कि अभी परिणाम आना बाकी है, लेकिन महामिलावटी नेताओं की फौज प्रधानमंत्री बनने को लेकर मन नही मन ताल ठोक रहे हैं। ऐसे दिग्गजों को अपनी संख्या बल का इंतजार है, ताकि प्रधानमंत्री नहीं बन सकें तो कम से कम सौदेबाजी कर अपनी पार्टी और खुद का वजूद कायम रह सके। इस कारण विपक्ष में शामिल दो दर्जन से अधिक दलों के नेता प्रधानमंत्री के चेहरे को लेकर अब तक चुप्पी साध खुद महात्वाकांक्षी बने हुए हैं।

उन्होंने कहा कि 23 मई को देश की जनता महागठबंधन की गांठ को खोल एक-एक कर बंगाल की खाड़ी में विसर्जित कर देगी, ताकि फिर एकजुट होने का सपना न देख सकें। हाल यह है कि विपक्ष के जितने दल देश भर में साथ मिल चुनाव लड़ रहे हैं, सभी दलों के मुखिया अंदर ही अंदर अपने आप को भावी प्रधानमंत्री प्रोजेक्ट करने से नहीं चूक रहे हैं। इसलिए 23 तक का इंतजार करने की बात कर रहे हैं, लेकिन 23 को ऐसे नेताओं की न सिर्फ तैश खत्म होगी बल्कि सियासी दुकान हमेशा के लिए बंद हो जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News