मोतिहारी एसपी ने क्राइम मीटिंग में डीएसपी को दिया निर्देश, कहा आदतन अपराधियों पर सीसीए का भेजे प्रस्ताव

मोतिहारी एसपी ने क्राइम मीटिंग में डीएसपी को दिया निर्देश, कहा आदतन अपराधियों पर सीसीए का भेजे प्रस्ताव

MOTIHARI : मोतिहारी जिला पुलिस की मासिक अपराध गोष्ठी आज पुलिस कप्तान डॉ• कुमार आशीष, की अध्यक्षता में पुलिस कार्यालय स्थित सभा कक्ष में आयोजित हुई। इस मासिक अपराध गोष्ठी में सभी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, पुलिस उपाधीक्षक (रक्षित) एवं पुलिस उपाधीक्षक (मुख्यालय), सभी अंचल निरीक्षक, सभी थानाध्यक्ष एवं पुलिस कार्यालय के सभी कोषांग प्रभारी भी उपस्थित रहे। मासिक अपराध गोष्ठी की शुरुआत में पुलिस कप्तान द्वारा सभी पुलिस पदाधिकारियों को मुहर्रम, महावीरी झंडा, श्रावणी मेला में उत्कृष्ट विधि-व्यवस्था संधारण के लिए बधाईयाँ दी गयी।

पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी पुलिसकर्मियों को निम्न निर्देश दिया गया कि भीड़-नियंत्रण तथा विधि-व्यवस्था संधारण हेतु संवेदनशील स्थानों पर ड्रॉप-गेट और बैरिकेडिंग के साथ थाना/अंचल और अनुमंडल स्तर पर क्विक रेस्पॉन्स टीम (QRT) गठित की जाय। दोपहिया एवं चार पहिया वाहनों से प्रभावकारी गश्ती के अलावा पैदल गश्ती को भी सुदृढ़ किया जाय। सभी थाना एवं अनुमंडल स्तर पर शांति समिति एवं साइबर सेनानी ग्रुप को सक्रिय करते हुए जनता के साथ पुलिस के संबंध को और मजबूत करें। विधि-व्यवस्था संधारण हेतु 107/108/110/116 CrPC की कार्रवाई की जाय। सभी एसडीपीओ आदतन अपराधियों के विरुद्ध CCA प्रस्ताव दें। बलात्कार के मामलों में अविलंब एसडीपीओ के नेतृत्व में एसआईटी गठित की जायेगी। संगीन अपराधों में FSL की मदद अपराध के उद्भेदन में अवश्य ली जाय।

पुलिस अधीक्षक द्वारा मासिक अपराध गोष्ठी में गंभीर कांडों यथा फिरौती हेतु अपहरण, हत्या, डकैती, लूट, महिलाओं के विरुद्ध अपराध, एससी/एसटी के विरुद्ध अपराध आदि की गहन समीक्षा करते हुए पुराने लंबित मामलों को प्राथमिकता के आधार पर निष्पादन करने का निर्देश दिया। कांडों के निष्पादन हेतु उन्होंने लक्ष्यबद्ध अभियान चलाने का निर्देश दिया। जिले के गंभीर कांडों एवं सामाजिक दूरगामी प्रभाव वालों कांडों, त्वरित गिरफ्तारी हुए कांडों को चिह्नित कर उनके त्वरित अनुसंधान एवं त्वरित विचारण का निर्देश दिया।

आसूचना संकलन के लिए चौकीदारी परेड, शांति समिति, जनता में व्यापक आउटरीच इत्यादि का मौलिक पुलिसिंग में अनुप्रयोग करने का निर्देश दिया गया।आधारभूत पुलिसिंग को सुदृढ़ करने हेतु ऑपरेशन प्रहार के तहत कारवाई, मद्यनिषेध में छापामारी, विनष्टीकरण, राज्यसात, आदि के साथ-साथ गुणवत्तायुक्त गिरफ्तारी एवं न्यायालय में दंडसिद्धि हेतु वारंट-सम्मन का तामिला, गवाहों के न्यायालय में उपस्थापन, इत्यादि बिंदुओं पर पुलिस अधीक्षक द्वारा बिंदुवार समीक्षा कर महत्वपूर्ण निर्देश दिए गए हैं। पॉक्सो, सड़क दुर्घटना, वाहन चोरी, गृहभेदन, दहेज-हत्या, महिलाओं के विरुद्ध अपराध, इत्यादि के निवारण के लिए थानाध्यक्ष, अंचल निरीक्षक एवं एसडीपीओ को सुनियोजित रणनीति बनाकर कार्य करने का निर्देश दिया।

पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी थानाध्यक्ष एवं एसडीपीओ को नियमित भूमि विवाद निस्तारण बैठक कर भूमि विवाद से जनित अपराधों पर अंकुश लगाने का निर्देश दिया गया। मासिक अपराध गोष्ठी में महिला सशक्तिकरण के लिए मोतिहारी पुलिस द्वारा शुरू की गई पहल "आवाज दो" की चर्चा कर सभी पुलिस पदाधिकारियों को नारी अधिकारों के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए कर्तव्यनिष्ठा से कार्य करने का निर्देश दिया।

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News